June 14, 2021

DVNA

Digital Varta News Agency

नूतन वर्ष पर दिव्यांग जनों के बीच बांटा कंबल

बगहा-बिहार (डीवीएनए)। रविवार की रात नूतन वर्ष के मौके पर स्वरांजलि सेवा संस्थान द्वारा बगहा में शीतलहर के प्रकोप को देखते हुए दिव्यांग जनों के बीच निःशुल्क कंबल और भोजन वितरण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ मंत्री मार्केट के निकट से हुआ।
चर्चित कलाकार एवं संस्था के संस्थापक डी. आनन्द ने अपने संबोधन में कहा कि दिव्यांग जनों की सेवा ही सच्ची ईश्वर भक्ति है। कंबल देने से पूर्व उत्तर प्रदेश के दिव्यांग को सम्मान पूर्वक स्वादिष्ट भोजन कराया गया। इस दौरान आसपास के इलाकों में घूम घूम कर कई दिव्यांग जनों को भोजन एवं कंबल प्रदान किया गया।
श्री आनंद ने कहा कि 14 नवंबर 2012 से संस्था द्वारा दिव्यांग जनों की खोज करते हुए ऐसे लोगों की सेवा की जाती है। जो अपने बारे में ज्यादा कुछ बता भी नहीं सकते वैसे आंशिक और मानसिक दिव्यांग जनों को उनके परिजनों से मिलवाने का काम भी किया जाता है।अब तक भारत व नेपाल के कई दिव्यांगों को उनके परिजनों से मिलवाया जा चुका है।
संस्था के मैनेजिंग डायरेक्टर एवं समाजसेवी संगीत आनंद ने कहा कि बाल्मीकि नगर के आसपास के इलाकों में विगत 8 वर्षों से नियमित रूप से हर दिन सुबह शाम भोजन वितरित किया जाता है। हर वर्ष ठंड के मौसम में ऐसे लोगों को गर्म कपड़े और कंबल भी प्रदान किए जाते हैं। इस वर्ष भीषण ठंड को देखते हुए बगहा के आसपास रहने वाले दिव्यांग जनों के बीच भी कंबल वितरण करने की कोशिश की जा रही है।जैसे ही संस्था को सरकारी आर्थिक सहायता मिलने लगेगी बगहा के आसपास के इलाकों में भी सुबह-शाम नियमित रूप से ऐसे दिव्यांग जनों को भोजन मिलने लगेगा। अभी समय-समय पर ट्रस्ट की गाड़ी बगहा आती है और ऐसे लोगों की तलाश करके उन्हें भोजन प्रदान करती है। नुक्कड़ कार्यक्रम के माध्यम से मानवीय संवेदनाएं जागृत करने का काम किया जा रहा है ।
बगहा के व्यवसाई राजेश कुमार एवम् समाजसेवी अजय सोनी ने इस कार्यक्रम की भूरी भूरी प्रशंसा की ।इस मौके पर लेखक विवेक कुमार सिंह, अनमोल कुमार, स्वरांजलि सेवा संस्थान की राष्ट्रीय अध्यक्षा अंजू देवी, एडिटर स्वरांजलि सरगम, संस्था के कोषाध्यक्ष शिव चंद्र शर्मा आदि मौजूद थे। रात के अंधेरे में ठंड के मौसम में इस तरह के सामाजिक कार्यों को देख कर बाजार के लोगों ने स्वरांजलि सेवा संस्थान की जमकर तारीफ की। कार्यक्रम के अंत में श्री आनन्द ने आम लोगों से अपील किया कि जब भी घर से बाहर निकले नया न सही पुराना ही सही कंबल और गर्म कपड़े घर से लेकर चले ।और रास्ते में ऐसे दिव्यांग जहां भी दिखे उन्हें आप दें । जिससे ऐसे लोगों की जान की रक्षा की जा सके। सिर्फ सरकार के भरोसे रहकर हम समाज सेवा नहीं कर सकते।