June 17, 2021

DVNA

Digital Varta News Agency

बारिश कहीं राहत तो कहीं आफत, ये है किसानों की प्रतिक्रिया

काशीपुर डीवीएनए। एक ओर किसानों के लिए कृषि बिल मुसीबत का पहाड़ बना हुआ है तो वहीं किसानों पर भगवान मेहरबान हैं। मैदानी क्षेत्रों में बारिश से किसानों के चेहरे पर मुस्कान देखी जा सकती हैं क्योंकि ये बारिश उनकी फसलों के लिए वरदान साबित हो सकती है। गेंहू, गन्ना,आलू ओर मटर की फ़सल के लिए बारिश लाभकारी है। तो वहीं पहाड़ी क्षत्रो में बर्फ़बारी से ठंड का प्रकोप बढ़ा दिया है।

आपको बता दें कि उधम सिंह नगर में आधी रात्रि से हल्की हल्की बूंदाबांदी हो रही है जिससे किसानों की फसलों को लाभ मिलेगा। पिछले दो दिन से उधम सिंह नगर कोहरे चपेट में था जिससे जनपदवासियों को ठंड का प्रकोप झेलना पड़ रहा था।

लोग आग जला कर अपनी ठंड को दूर कर रहे थे। तब इसी बीच बारिश के होने से मौसम ने करवट बदल ली। हो रही बारिश से कोहरे से तो निजात मिली ही है। साथ ही बारिश किसानों की फसल के लिये लाभकारी साबित हो रही है।

जहां किसानों के लिए कृषि बिल एक गले की फांस बना हुआ है और किसान आंदोलन में अपने घरों से बेघर हैं उसी बीच भगवान की मेहरबानी ने उनके चेहरे पर थोड़ी मुस्कराहट लाई है।

जब कि यदि ज्यादा बारिश हुई तब मटर ओर आलू की फसल नष्ट भी हो सकती है जो कि किसानों के लिये एक चिंता का विषय भी बना हुआ है।

किसान विपिन काम्बोज की मानें तब ये बारिश किसानों के फायदे की है इस बारिश से किसानों की गेहूं की फसल को सबसे ज्यादा फायदा होगा। लेकिन बारिश के दौरान ओले की बरसात किसानों को नुक़सान भी पहुँचा सकती है।

किसान नूर हसन के अनुसार ये बारिश किसानों के लिये वरदान है क्यों कि गेहूं के लिए ये बारिश अमृत के समान है। इस बारिश से गेहूं की पैदावार बढ़ेगी और बारिश से कोहरे से भी निजात मिलेगी।
संवाद अज़हर मलिक