June 13, 2021

DVNA

Digital Varta News Agency

हैप्पी न्यू ईयर, उगते सूरज के साथ लें खुद को बदलने का संकल्प

नई दिल्ली डीवीएनए। हर साल कुछ नई उम्मीदें लेकर आता है और बहुत से लोग हर बार नववर्ष पर संकल्प करते हैं। लेकिन इनमें से अधिकांश संकल्प टूट जाते हैं। इनका टूटना भी लाजमी है क्योंकि आधे-अधूरे मन से सिर्फ रस्म अदायगी के लिए किए गए वादे कभी पूरे नहीं होते।

लेकिन दृढ़ इच्छाशक्ति से संकल्प लें तो बुरी आदतों को त्यागने और जीवन में सुधार का इससे बेहतर वक्त शायद न हो।

2020 हमसे चंद लम्हों में विदा होने वाला है और हम नए साल 2021 में प्रवेश करने वाले हैं। नव वर्ष एक अच्छा अवसर होता है जिसमें अपनी बुराइयों का खात्मा करते हुए अपनी शख्सियत में सुधार किया जा सकता है।

नए साल पर अधिकांश लोग नशे की अपनी आदत को छोड़ने अथवा अपनी जीवचर्य से संबंधित संकल्प लेते हैं। जैसे- सुबह जल्दी उठना, मॉर्निंग वॉक का नियम, रोज धर्म से संबंधित किताबें पढ़ना आदि।

इन संकल्पों के पीछे यह मूल भावना होती है कि जीवन की गुणवत्ता बढ़ें। संकल्प तोड़ने की सबसे बड़ी वजह यह होती है कि ये बिना जरूरी तैयारियों के किए जाते हैं। नशे की आदत अगर पुरानी हो तो इसे रातोंरात नहीं बदला जा सकता। संकल्प लेना अच्छी बात है लेकिन इसके लिए खुद को तैयार करना पड़ता है। तो दृढ़ इच्छाशक्ति के साथ एक सकारात्मक पहल जरूर करें।