September 18, 2021

DVNA

Digital Varta News Agency

शिक्षक धर्मेंद्र पांडेय ने जिले का बढ़ाया सम्मान, वाराणसी में हुए सम्मानित

कुशीनगर (डीवीएनए)। परिषदीय स्कूलों में गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करने के लिए मिशन शिक्षण संवाद के तहत मिशन शिक्षण संवाद के बैनर तले 25 दिसम्बर को आयोजित राज्य स्तरीय शैक्षणिक गुणवत्ता संवर्धन कार्यशाला वाराणसी में जनपद कुशीनगर के कप्तानगंज क्षेत्र के पडौली के धर्मेंद्र पाण्डेय और शैलेश गुप्ता को प्रदेश सरकार के बिनेट मंत्री अनिल राजभर तथा राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार रवींद्र जायसवाल द्वारा उत्कृष्ट कार्यों प्रयासों के लिए सम्मानित किया गया।
इस कार्यशाला में पूरे प्रदेश के 200 शिक्षकों ने प्रतिभाग करके अपने जनपदों के उत्कृष्ट कार्यों का प्रस्तुतिकरण किया था तथा वाराणसी के मॉडल स्कूलों का भ्रमण किया।
बेसिक शिक्षा अधिकारी वाराणसी राकेश कुमार सिंह ने सभी शिक्षकों को बेसिक शिक्षा के बनारस मॉडल के बारे में बताया तथा इसे पूरे प्रदेश में लागू कर प्रदेश को प्रेरक बनाने के आवाहन के साथ-साथ निर्मल-पावनी- मोक्षदायिनी मां गंगा और काशी विश्वनाथ का दर्शन भी कराया गया।
कार्यशाला में जनपद का प्रतिनिधित्व करते हुए कप्तानगंज क्षेत्र के पडौली के धर्मेन्द्र कुमार पाण्डेय को बीएसए विमलेश कुमार , बीईओ रामकोला अनूप कुमार गुप्ता के नेतृत्व में जनपद के अभिनव प्रयोगों व अनुप्रयोगों जैसे जनपद स्तरीय आईसीट,नेतृत्व व आकलन की कार्यशाला, एजुकेशनल हॉट स्पॉट, स्टार्स ऑफ द मंथ, स्टार स्टूडेंट्सध्पैरेंट्स ऑफ द ईयर,ऑपरेशन कायाकल्प द्वारा विद्यालयों के बदलते स्वरूप, लॉकडाउन में शिक्षकों के विशेष प्रयासों, ई पाठशाला का संचालन, अध्यापकों का राज्य स्तरीय पुरस्कारों में चयन, छात्र-छात्राओं की राज्य एवं जनपद स्तरीय उपलब्धियों, मंडल स्तरीय खेलकूद प्रतियोगिताओं में प्रथम स्थान आदि जनपद के अनेक उत्कृष्ट कार्यों का पावर पॉइंट प्रेजेंटेशन के माध्यम से प्रस्तुतीकरण किया गया ।
जिसमें जनपद के शिक्षकों के कृतित्व की गूंज पूरे प्रदेश को सुनाई दी।
प्रदेश स्तरीय ष्शैक्षणिक गुणवत्ता संवर्धन कार्यशालाष् में जनपद के प्रतिनिधित्व का मौका देने के लिए प्रधानाध्यापक धर्मेंद्र कुमार पांडेय ने मिशन शिक्षण संवाद की ष्जनपद एडमिन श्रीमती मंजू सिंहष् का हृदय के अंतःस्थल से धन्यवा ज्ञापित किया और कहा कि इन्होंने मुझ पर विश्वास कर मुझे जनपद का प्रतिनिधित्व करने का अवसर दिया।
संवाद रविन्द्र विश्वकर्मा