September 20, 2021

DVNA

Digital Varta News Agency

महिला किसान करेगी जैविक एवं उन्नतशील खेती

बांदा (डीवीएनए)। एनआरएलएम के तहत गठित महिला समूहों को आजीविका सखी का पांच दिवसीय प्रशिक्षण दिया गया। उन्हें जैविक व उन्नतशील खेती के बारे में अवगत कराया गया। अंतिम दिन महिलाओं को बड़ोखर खुर्द व डिगवाही में प्रगतिशील बागवानी व खेती का भ्रमण कराया गया। प्रशिक्षण ले रही 34 महिलाओं को प्रमाण पत्र दिए गए।
उत्तर प्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के अंतर्गत शहर के एक होटल में आजीविका सखियों को पांच दिवसीय आवासीय प्रशिक्षण दिया गया। इस मौके पर ट्रेनर डीआरपी कमल मिश्रा ने महिलाओं को मिट्टी की भिन्नता के बारे में बताया। मृदा परीक्षण, बीज शोधन के बारे में जानकारी दी। उन्हें प्रोजेक्टर के माध्यम से भी जैविक खेती की जानकारी दी गई। जैविक खाद, भू नाडेप, नाडेप, कंपोस्ट खाद, वर्मी कंपोस्ट और निमास्त्र, ब्रह्मासत्र, आगनास्त्र निर्माण के बारे में जानकारी दी। डीआरपी जगमोहन लाल ने श्री विधि व स्वी विधि से धान और गेहूं की बुआई कर पैदावार अधिक होने के बारे में बताया। पशु पालन, उनमें होने वाले रोग तथा खानपान के बारे में बताया गया। प्रशिक्षण के समापन पर जिला मिशन प्रबंधक राकेश कुमार ने कृषि और पशुपालन से आत्मनिर्भर बनने के तौर-तरीके बताए। प्रतिभागियों को बड़ोखर खुर्द में प्रगतिशील किसान प्रेम सिंह की बगिया और डिगवाही गांव में समूह की महिला कमलेश के यहां का भ्रमण कराया गया। महिलाओं को जैविक खाद, पशुपालन, पौध क्यारी को दिखाया गया।
प्रशिक्षण समापन के दौरान सभी प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र के साथ एक एक बैग और यात्रा भत्ता दिया गया। इस इस मौके पर डीएमएम निखा सचान, शालिनी जैन, प्रवीण कंचनी, धर्मेंद्र जायसवाल, डीआरपी अशोक राज, बीआरपी के अलावा बबेरू ब्लाक से 13, महुआ से 7 और तिदवारी से 14 महिलाओं ने प्रशिक्षण में प्रतिभाग किया।
संवाद विनोद मिश्रा