May 12, 2021

DVNA

Digital Varta News Agency

अगले 5 दिनों के दौरान मौसम की चेतावनी

नई दिल्ली (डीवीएनए)। बंगाल की दक्षिण पूर्व खाड़ी और उससे सटे दक्षिण अंडमान सागर तथा भूमध्यरेखीय हिंद महासागर के आसपास एक कम दबाव का क्षेत्र तैयार हो रहा है। अगले 36 घंटों के दौरान दबाव गहरा हो सकता है और उसके बाद इसके आगे बढ़ने की संभावना है।

02 दिसंबर 2020 को तमिलनाडु, पुदुचेरी और कराईकल में मध्यम से तेज़ आंधी के साथ बहुत तेज़ बारिश और अत्यधिक भारी बारिश हो सकती है, इसके अलावा दक्षिण तमिलनाडु और दक्षिण केरल के अलग-अलग स्थानों पर भारी बारिश होने की भी संभावना है मछुआरों को सलाह दी जाती है कि वे 29 नवंबर को दक्षिण पूर्व बंगाल की खाड़ी और दक्षिण अंडमान सागर से सटे इलाकों में न जाएं।

भारत के मौसम विभाग (IMD) के राष्ट्रीय मौसम पूर्वानुमान केंद्र के अनुसार, बंगाल की दक्षिण पूर्व खाड़ी और उससे सटे दक्षिण अंडमान सागर तथा भूमध्यरेखीय हिंद महासागर के आसपास एक कम दबाव का क्षेत्र तैयार हो रहा है। अगले 36 घंटों के दौरान दबाव गहरा हो सकता है और उसके बाद इसके आगे बढ़ने की संभावना है। इसके उत्तर पश्चिम की ओर बढ़ने की संभावना है और 02 दिसंबर, 2020 के आसपास इसके दक्षिण तमिलनाडु तट के करीब पहुंचने की संभावना है।

उपरोक्त प्रणाली के प्रभाव में, 01 से 03 दिसंबर, 2020 के दौरान तमिलनाडु, पुदुचेरी और कराईकल, केरल और माहे, लक्षद्वीप, दक्षिण तटीय आंध्र प्रदेश और दक्षिण रायलसीमा में अत्यधिक भारी बारिश हो सकती है।

01 से 03 दिसंबर 2020 के बीच तमिलनाडु, पुदुचेरी और कराईकल में मध्यम से तेज़ आंधी के साथ बहुत तेज़ बारिश और अत्यधिक भारी बारिश हो सकती है, इसके 02 दिसंबर को अलावा दक्षिण तमिलनाडु और दक्षिण केरल के अलग-अलग स्थानों पर भारी बारिश होने की भी संभावना है। 02- 03 दिसंबर, 2020 के दौरान दक्षिण तटीय आंध्र प्रदेश, रायलसीमा और लक्षद्वीप क्षेत्र में भी बादल कड़कने और बिजली गिरने के साथ भारी बारिश हो सकती है।

मछुआरों को 29 नवंबर को दक्षिण पूर्व बंगाल की खाड़ी और उससे सटे दक्षिण अंडमान सागर, 30 नवंबर को बंगाल की दक्षिण खाड़ी के मध्य भागों में; 01 और 02 दिसंबर को बंगाल की दक्षिण-पश्चिम खाड़ी, मन्नार की खाड़ी, कोमोरिन क्षेत्र, तमिलनाडु और केरल के तटों पर तथा 02 और 03 दिसंबर, 2020 को लक्षद्वीप-मालदीव क्षेत्रों और दक्षिण पूर्व अरब सागर पर में मछुआरों को नहीं जाने की सलाह दी गई है।

मौसम विज्ञान विश्लेषण (भारतीय समयानुसार 0830 बजे पर आधारित)

बंगाल की दक्षिण पूर्व खाड़ी और उससे सटे दक्षिण अंडमान सागर तथा भूमध्यरेखीय हिंद महासागर के आसपास एक कम दबाव का क्षेत्र तैयार हो रहा है। अगले 36 घंटों के दौरान दबाव गहरा हो सकता है और उसके बाद इसके आगे बढ़ने की संभावना है। इसके उत्तर पश्चिम की ओर बढ़ने की संभावना है और 02 दिसंबर, 2020 के आसपास इसके दक्षिण तमिलनाडु तट के करीब पहुंचने की संभावना है।

मध्य क्षोभ मंडल में एक गर्त के रूप में पश्चिमी विक्षोभ बन रहा है।
हरियाणा और उससे सटे पश्चिम उत्तर प्रदेश में एक चक्रवाती क्षेत्र बन रहा है।
महाराष्ट्र तट से पूर्व-पूर्वी अरब सागर के ऊपर एक चक्रवाती लहर बन रही है
पूर्वोत्तर बांग्लादेश और उसके निकट चक्रवाती घुमाव तैयार हो रहा है।
अगले 5 दिनों के दौरान मौसम की चेतावनी

29 नवंबर (दिन 1):

अंडमान और निकोबार द्वीपसमूह पर अलग-अलग स्थानों पर भारी बारिश हो सकती है
तटीय आंध्र प्रदेश और यनम और अंडमान और निकोबार द्वीपों पर अलग-अलग स्थानों पर बिजली कड़कने और बादल गरजने के साथ-साथ आंधी आ सकती है।
त्रिपुरा में अलग-अलग स्थानों पर घना कोहरा।
दक्षिण पूर्व बंगाल की खाड़ी और दक्षिण अंडमान में तेज हवा(हवा की गति 40-50 किमी प्रति घंटे से लेकर 60 किमी प्रति घंटे तक) चल सकती हैं।मछुआरों को इन क्षेत्रों में उद्यम न करने की सलाह दी जाती है।
30 नवंबर (दिन 2):

त्रिपुरा में अलग-अलग स्थानों पर घने कोहरे की संभावना है।
बंगाल की दक्षिण खाड़ी में तेज हवा(हवा की गति 45-55 किमी प्रति घंटे से लेकर 65 किमी प्रति घंटे तक) चल सकती हैं। मछुआरों को इन क्षेत्रों में उद्यम न करने की सलाह दी जाती है।
01 दिसंबर (दिन 3):

दक्षिण तमिलनाडु में अलग-थलग स्थानों पर भारी से बहुत भारी बारिश; उत्तर तमिलनाडु, पुदुचेरी और कराईकल तथा केरल और माहे में अलग-अलग स्थानों पर भारी बारिश हो सकती है।
केरल और माहे और तमिलनाडु, पुदुचेरी और कराईकल में अलग-अलग स्थानों पर बिजली गिरने और आंधी चलने की संभावना है।
बंगाल की दक्षिण पश्चिम की खाड़ी, कोमोरिन क्षेत्र, मन्नार की खाड़ी और तमिलनाडु-केरल के तटों पर हवा (50-60 किमी प्रति घंटे से लेकर 70 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चलने वाली हवा) चल सकती है।
मछुआरों को इन क्षेत्रों में नहीं जाने की सलाह दी जाती है।
02 दिसंबर (दिन 4):

दक्षिणपूर्वतमिलनाडुऔर दक्षिण केरल में के कुछ स्थानों पर बहुत तेज बारिश तथा अलग-थलग स्थानों पर अत्यधिक भारी बारिश हो सकती है। इसके अलावा उत्तरी तमिलनाडु, पुदुचेरी और कराईकल और उत्तरी केरल और माहे में अलग-अलग स्थानों पर भारी से अत्यधिक भारी बारिश हो सकती है। वहीं तटीय आंध्र प्रदेश और यानम, रायलसीमा और लक्षद्वीप में अलग-अलग स्थानों पर भारी बारिश हो सकती है।
तटीय आंध्र प्रदेश और यनम, रायलसीमा, लक्षद्वीप, केरल और माहे और तमिलनाडु, पुदुचेरी और कराईकल पर अलग-अलग स्थानों पर बिजली गिरने की संभावना है।
केरल के तट, कोमोरिन क्षेत्र और खाड़ी के साथ और दक्षिण तमिलनाडु तट और दक्षिणी तमिलनाडु तट, अरब सागर और लक्षद्वीप-मालदीव क्षेत्र में हवा की गति 50-60 किलोमीटर से लेकर 70 किमी प्रति घंटे तक पहुंच सकती है।
मछुआरों को इन क्षेत्रों में उद्यम न करने की सलाह दी जाती है।
03 दिसंबर (दिन 5):

दक्षिण तमिलनाडु, दक्षिण केरल और लक्षद्वीप में अलग-अलग स्थानों पर भारी से अत्यधिक बारिश हो सकती है, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह, तटीय आंध्र प्रदेश और यनम, रायलसीमा तथा उत्तर तमिलनाडु, पुदुचेरी एवं कराईकल में अलग-अलग स्थानों पर भारी बारिश हो सकती है।
तटीय आंध्र प्रदेश और यनम, रायलसीमा, दक्षिण आंतरिक कर्नाटक, लक्षद्वीप, केरल और माहे और तमिलनाडु, पुदुचेरी और कराईकल में अलग-अलग स्थानों पर बिजली गिरने की संभावना है।
केरल के तटवर्ती लक्षद्वीप क्षेत्र के साथ-साथ दक्षिण पूर्व अरब सागर पर में 50-60 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से 70 किमी प्रति घंटे तक की रफ्तार से हवा चल सकती है।
मछुआरों को इन क्षेत्रों में नहीं जाने की सलाह दी जाती है।