September 23, 2021

DVNA

Digital Varta News Agency

महाराजा सूरजमल जी के बलिदान दिवस के अवसर पर विचार गोष्ठी का आयोजन

आगरा।(डीवीएनए ) अखिल भारतीय जाट महासभा आगरा की ओर से महाराजा सूरजमल जी के बलिदान दिवस के अवसर पर विचार गोष्ठी का आयोजन किया गया। बोस्टन पब्लिक स्कूल दहतोरा में आयोजित इस विचार गोष्ठी में महापौर नवीन जैन मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हुए। महापौर नवीन जैन ने महाराजा सूरजमल, वीरवर गोकुला सिंह जाट, शहीद भगत सिंह और किसानों के मसीहा चौधरी चरण सिंह के चित्र पर पुष्प अर्पित कर श्रद्धा सुमन अर्पित किए जिसके बाद विचार गोष्ठी की शुरुआत हुई। इस दौरान अखिल भारतीय जाट महासभा आगरा की ओर से महापौर का स्वागत सत्कार किया गया जिसके बाद महासभा के पदाधिकारियों ने महाराजा सूरजमल के जीवन पर प्रकाश डालते हुए उनके जीवन के इतिहास और सर्व समाज व देशहित में दिए गए उनके बलिदान पर अपने-अपने विचार रखें।

विचार गोष्ठी में समाज के लोगों को संबोधित करते हुए महापौर नवीन जैन ने कहा कि महाराजा सूरजमल एक सशक्त राजा थे जिन्होंने मुगलों के खिलाफ झंडा उठाया था। उन्होंने आगरा को मुगलों से मुक्त कराने का निश्चय किया और आक्रमण कर आगरा को मुगलों से मुक्त कराकर किले पर केसरिया ध्वज फहरा दिया था। मुगलों से लोहा लेते समय उन्होंने 1763 में दिल्ली को भी जीत लिया था।

महापौर नवीन जैन ने कहा कि जिस प्रकार से महाराजा सूरजमल ने शासन किया, अन्याय को बर्दाश्त नहीं किया और लोगों का उत्पीड़न करने वाले मुगलों से लोहा लिया, वे सभी के लिए प्रेरणा स्रोत है। उनका कहना था कि अपने आप में इतिहास को समेटे हुए महाराजा सूरजमल जी की प्रतिमा शहर में अभी तक क्यों नहीं लगी, यह आश्चर्य की बात है। फिर उन्होंने कहा कि हर शुभ कार्य का एक समय आता है और इस शुभ कार्य की शुरुआत अब हो गई है।

महापौर नवीन जैन ने इस विचार गोष्ठी के दौरान समाज के लोगों के सामने घोषणा की कि नगर निगम महाराजा सूरजमल और वीरवर गोकुला की भव्य प्रतिमा लगाने का कार्य करेगा।

महापौर नवीन जैन की ओर से महाराजा सूरजमल की प्रतिमा लगाए जाने की घोषणा होते ही वहा मौजूद समाज में खुशी की लहर दौड़ गई। सभी ने महापौर नवीन जैन को फूल मालाओं से लाद दिया और इस घोषणा के लिए उन्हें साधुवाद भी किया।

इस अवसर पर राज्य मंत्री चौधरी उदयभान सिंह, अखिल भारतीय जाट महासभा के प्रदेश अध्यक्ष प्रताप चौधरी, जिला अध्यक्ष कप्तान सिंह चाहर, कुंवर शैलराज सिंह, सुरेंद्र चौधरी, गोपीचंद, बृजेश चाहर, हरिओम जूरेल, मोहन सिंह चाहर, सोनू चौधरी, देवेंद्र चाहर, पार्षद राहुल चौधरी, पार्षद बच्चू सिंह, अजीत चाहर और अखिल भारतीय जाट महासभा के सभी पदाधिकारी मौजूद रहे।
संवाद , दानिश उमरी