July 24, 2021

DVNA

Digital Varta News Agency

कृषि कानून के समर्थन में किसानों ने निकाली समर्थन यात्रा, बोले- हम हैं मोदी के साथ

लखनऊ/गाजियाबाद डीवीएनए। केन्द्र सरकार के कृषि बिल के समर्थन में अब किसान लामबंद होना शुरू हो गए है। रविवार को हिन्द मजदूर किसान समिति के नेतृत्व में कृषि बिल के समर्थन में हजारों की संख्या में किसानों व मजदूरों ने मुजफ्फरनगर से गाजियाबाद तक कृषि बिल समर्थन यात्रा निकाली। इस दौरान केन्द्रीय पशुपालन एवं मत्स्य राज्य मंत्री डाॅ0 संजीव बालियान मौजूद रहे। उन्होंने कहा कि कृषि कानून किसानों के हित में है लेकिन विपक्ष के लोग किसानों को बहका रहे हैं। समिति के अध्यक्ष राजपाल सिंह ने कहा कि वह इस बिल को लेकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का समर्थन करते हैं। बिल के समर्थन में समिति के पदाधिकारियों ने केन्द्रीय कृषि मंत्री से मुलाकात भी की।
कृषि बिल के समर्थन में रविवार को हिन्द मजदूर किसान समिति के नेतृत्व में हजारों की संख्या में किसानों व मजदूरों ने मुजफ्फरनगर से कृषि बिल समर्थन यात्रा निकाली। जो बिजनौर, बागपत से होते हुए गाजियाबाद इन्दिरापुरम स्थित रामलीला मैदान पहुंची। कृषि बिल समर्थन यात्रा जिस जिले से होकर निकली वहां से हजारों की संख्या में किसान व मजदूर इसमें शामिल होते चले गए। यात्रा में किसान नेता व समिति के अध्यक्ष श्री चंद्रमोहन ने किसानों को कृषि बिल से होने वाले फायदा के बारे में बताया। इस दौरान समिति के सदस्यों ने केन्द्रीय कृषि मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर से मुलाकात की। साथ ही, कृषि कानून के प्रति अपनी प्रतिबद्धता जाहिर की।
कार्यक्रम में दौरान केन्द्रीय पशुपालन एवं मत्स्य राज्य मंत्री डाॅ0 संजीव बालियान ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी किसानों के हित में लगातार काम कर रहे हैं। कृषि कानून के जरिए वह किसानों की आय दोगुनी करना चाहते हैं, लेकिन विपक्ष किसानों को गुमराह करने का काम कर रहा है, वह नहीं चाहता है कि इस देश के किसान तरक्की करें। उन्होंने किसानों को कृषि कानून और सरकार की योजनाओं के बारे में जानकारी दी।
किसान नेता शैलेन्द्र ने कहा कि हम मोदी जी का कृषि कानून स्वीकार करते हैं। उन्होंने कहा कि कृषि बिल आने से मण्डी के दलाल खत्म हो जाएंगे। किसानों को सीधा फायदा होगा। किसान नेता सुनील ने कहा कि किसान आन्दोलन में वह कौन लोग हैं, जो देश को तोड़ने का काम कर रहे हैं। उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए।