July 30, 2021

DVNA

Digital Varta News Agency

अमृत योजना: पहले कहें कनेक्शन मुफ्त है, अब भेज दिया बिल

बांदा (डीवीएनए)। जल संस्थान की कार्य पद्दति अजब और गजब है। अपने उपभोक्ताओ को गुड़ दिखाकर पत्थर मार रहा है। अमृत योजना में लाभान्वित जनता में हाय-तोबा मच गई है।
केंद्र सरकार की अमृत योजना से लाभांवित 1150 कनेक्शन धारकों को अब पानी का मूल्य चुकाना पड़ रहा है। इन्हें कनेक्शन मुफ्त मिला था। अब जल संस्थान इनसे पिछले ढाई साल का जल मूल्य वसूल रहा है। प्रत्येक कनेक्शन धारक को पहली छमाही का 3738 रुपये का बिल भेजा है। ढाई साल का कुल बिल लगभग 1.50 करोड़ रुपये अदा करना होगा।
अमृत योजना से वर्ष 2018 में शहरी क्षेत्र में बीपीएल परिवारों को केंद्र सरकार की इस योजना से मुफ्त पाइप लाइन कनेक्शन दिए गए थे। उपभोक्ताओं ने यह समझा कि मुफ्त कनेक्शन के साथ ही मुफ्त पानी भी मिलेगा। उपभोक्ताओं की यह सोच ढाई साल तक सही साबित होती रही। जल संस्थान ने कोई बिल नहीं भेजा, लेकिन अब उपभोक्ता सक ते में हैं। जल संस्थान ने कनेक्शन अवधि से अब तक का बिल भेज दिया है। जिले में इस योजना के 1150 लाभार्थी हैं। उन्हें छमाही बिल जारी हुए हैं।
अमृत योजना से जनपद में कुल 4343 कनेक्शन होने थे। इस योजना में पानी उपलब्ध कराने पर जल संस्थान ने हाथ खड़े कर लिए थे। इस पर कार्यदायी संस्था ने महज 1150 ही कनेक्शन किए थे।
जल संस्थान के अधिशाषी अभियंता वीरेंद्र श्रीवास्तव कहते हैं की अमृत योजना से जनपद में किए गए मुफ्त कनेक्शनों का जल मूल्य वसूली की जा रही है। संबंधित उपभोक्ताओं को बिल जारी किए गए हैं।