May 11, 2021

DVNA

Digital Varta News Agency

एक फोन कॉल और बैकफुट पर आया रेल प्रशासन

कुशीनगर।(डीवीएनए)छितौनी रेलवे स्टेशन के इर्द-गिर्द बाजार तक रेलवे की भूमि पर हुए अवैध अतिक्रमण को लेकर दूसरी बार भी जिला प्रशासन द्वारा  सहयोग न करने के कारण  बैरंग लौटना पड़ रहा है कारण यह रहा कि किसी प्रभावशाली व्यक्ति के एक फोन रेल प्रशासन के पास आने के बाद रेलवे ने अपनी कार्रवाई रोक दी। जिसको लेकर  कयासों का दौर जारी है।

निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों के पत्र के आधार पर जिलाधिकारी द्वारा निर्देशित छितौनी रेलवे स्टेशन से लेकर शिवरतन चौराहे तक रेलवे स्टेशन उत्तर तरफ सैकड़ों लोगों द्वारा अवैध कब्जा कर रखा है इसकी सूचना रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों को होने पर उनके द्वारा अतिक्रमण हटाए जाने का आदेश दिया गया था जो दूसरी बार भी उप जिलाधिकारी खड्डा अरविंद कुमार के आवश्यक कार्य से क्षेत्र में नहीं रहने के कारण अवैध अतिक्रमण नहीं हटाया जा सका। लेकिन रेलवे द्वारा अनावश्यक मुकदमा एवं  जुर्माना वसूलने की कार्रवाई के डर से कुछ लोगों द्वारा स्वयं अपनी दुकानें हटा ली गई तथा शेष जमीनों पर दर्जनों लोगो द्वारा अवैध अतिक्रमण अभी भी बरकरार है जिन्होंने अपना अवैध अतिक्रमण कर दुकान बना रखी है उन लोगों ने अपना अतिक्रमण बनाए रखे हुए हैं। जिन्हें रेलवे की तरफ से कोई एलॉटमेंट नहीं है। जिससे रेलवे को भारी भरकम राजस्व की क्षति हो रही है। पुनः दुबारा उप जिला अधिकारी द्वारा अतिक्रमण हटाए जाने में सहयोग नहीं करने से कप्तानगंज से आए हुए रेलवे के अधिकारियों में असंतोष व्याप्त था इसी दौरान किसी प्रभावशाली व्यक्ति का रेल अधिकारियों के पास एक फोन आया और रेल प्रशासन ने अपने कार्रवाई को रोक दिया। जिसको लेकर कई तरह की चर्चाएं चौराहे पर गर्म थी। इस अवैध रेलवे की जमीन पर हुए अतिक्रमण को हटाने के लिए उप जिलाधिकारी खड्डा द्वारा उपस्थित नहीं रहने को लेकर एक जनप्रतिनिधि का नाम लेकर उनके प्रभाव को उनके कार्यकर्ता साबित कर रहे थे।

अतिक्रमण हटाने को लेकर रेलवे सुरक्षा बल के कप्तानगंज के इंस्पेक्टर मुकेश कुमार सिंह सहित हनुमानगंज थाने के थाना प्रभारी विभा पांडे ने भारी मात्रा में पुलिस बल के साथ पीएसी की व्यवस्था कर रखी थी और राजकीय रेल पुलिस के जवान भी मौजूद थे । फिर भी अतिक्रमण का न हटना जिला प्रशासन के असहयोग को दर्शाने लगा है यह अतिक्रमण रेलवे कब तक हट- वाएगी यह तो भविष्य के गर्भ में है।संवाद:- कुशीनगर