May 16, 2021

DVNA

Digital Varta News Agency

डीएम की निगाहें शराबियों पर, निरीक्षण गृह में पियक्कड़ों को ठहराने की जांच शुरू

बांदा। (डीवीएनए)सिंचाई विभाग के अतिविशिष्ट निरीक्षण गृह में अनाधिकृत रूप से लोगों के ठहरने और नशेबाजी के मामले में जिलाधिकारी आनंद कुमार सिंह  का कड़ा रुख सामने आया है। उन्होनें केन नहर प्रखण्ड के अधिशासी अभियंता को जांच टीम गठित कर एक सप्ताह में रिपोर्ट मांगी  है। इसके साथ ही सहायक अभियंता गरुण देव  कार्यवाही के घेरे में जकड़ जानें की संभावना बढ़ गई है। पता चला हैं की नरैनी विधायक राजकरण कबीर ने बीते दिनों  जिला प्रशासन को सूचित किया था कि अतिविशिष्ट निरीक्षण गृह के कक्ष संख्या 3 में अनाधिकृत रूप से कुछ लोग ठहरे हैं और नशेबाजी कर रहे हैं। सूचना को गंभीरता से लेते हुए वीआईपी लिपिक को मौके पर भेजा गया था।

लिपिक को निरीक्षण गृह में मौजूद चौकीदार हयात ने बताया की केन नहर प्रखण्ड में सहायक अभियंता गरुण देव ने फोन करके कक्ष खोलने को कहा था। इसके बाद कक्ष को खाली कराया गया था।  इधर जिलाधिकारी के हवाले से प्रभारी अधिकारी वीआईपी ने अधिशासी अभियंता केन नहर प्रखण्ड को पत्र भेजकर उक्त मामले के उल्लेख के अलावा यह भी स्पष्ट किया है कि पहले भी दो-तीन बार इस प्रकार की शिकायतें प्राप्त हुई हें। शिकायतों को लेकर जरूरी निर्देश भी दिए गए , लेकिन निर्देशों का पालन नहीं किया जा रहा है। निरीक्षण गृह के कर्मचारियों का कार्य अत्यंत आपत्तिजनक है। अधिशासी अभियंता से मामले की जांच कराकर आख्या तलब की । अन्यथा निरीक्षण गृह की चाबियां अपनी अभिरक्षा में लिए जाने की भी चेतावनी दी  है।

जिलाधिकारी का कड़ा रुख सामने आने के बाद अधिशासी अभियंता केन नहर प्रखण्ड ने सहायक अभियंता ईश्वरदयाल शुक्ला की अध्यक्षता में तीन सदस्यीय समिति का गठन कर मामले की जांच के आदेश दिए हैं। एक सप्ताह में आख्या तलब की है। सहायक अभियंता जितेंद्र कुमार पटेल और उप राजस्व अधिकारी कृष्ण कुमार को समिति का सदस्य बनाया गया है। माना जा रहा है कि जांच के बाद सहायक अभियंता गरुण देव पर कार्यवाही हो सकती है।संवाद:- विनोद मिश्रा