September 29, 2021

DVNA

Digital Varta News Agency

अखिलेश यादव का भव्य स्वागत,1200 वर्ष पुराने राधाकृष्ण मंदिर में किया दर्शन-पूजन

   लखनऊ (डीवीएनए)। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का आज लखनऊ के बख्शी का तालाब क्षेत्र में जनता ने भव्य स्वागत किया। क्षेत्र के भौली गांव में एक कार्यक्रम में जाते हुए और वापसी में जानकारी होनेपर जगह-जगह अपने आप एकत्रित महिलाओं, बुजुर्गों और नौजवानों की भीड़ ने अखिलेश यादव जिंदाबाद के नारों से अभिवादन किया। रैथा रोड़ पर सहभागी शिक्षण केन्द्र में तथा बृज की रसोई के सामने भी श्री यादव का जोरदार अभिनंदन हुआ। स्थानीय लोगों में इतना उत्साह था कि श्री यादव को अपनी कार की गति धीमीकर उनके समीप जाना पड़ा। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय सचिव राजेन्द्र चौधरी भी उनके साथ थे।
  श्री यादव आज भौली गांव में श्री अजय रतन सिंह के निवास पर आयोजित एक कार्यक्रम में भाग लेने गए थे। यहां श्री यादव ने 1200 वर्ष पुराने राधाकृष्ण मंदिर में दर्शन-पूजन किया। मंदिर में विष्णु भगवान, राम सीता लक्ष्मण तथा हनुमान जी, काली मां, तथा भगवान शंकर जी के विग्रह मौजूद हैं।
 श्री अखिलेश यादव ने भौली गांव में समाजवादी आंदोलन से जुड़े सर्वश्री कालिका सिंह, ईश्वरदीन, साजन, देशराज, रामपाल तथा शैलेन्द्र को शाल ओढ़ाकर सम्मानित किया।
   इस अवसर पर श्री अजय चौहान, पाटेश्वरी चौहान आदि भी उपस्थित थे। उन्होंने श्री अखिलेश यादव को भरोसा दिलाया कि जनसामान्य उनके साथ है। लोग भाजपा सरकार से ऊबे  हुए हैं। अगले विधानसभा चुनावों में समाजवादी पार्टी की सरकार बहुमत में आएगी। जहां-जहां से भी श्री अखिलेश यादव गुजरे वहां-वहां उनके काफिले के पीछे लोग दौड़ते रहे। लोगों ने जोरदार आवाज में कहा कि अब अखिलेश जी की सरकार बनने से कोई नहीं रोक सकता।
 भौली गांव के कार्यक्रम में वापसी से श्री अखिलेश यादव ने हरिश्चन्द्र की सब्जी की दुकान पर रूककर सब्जी खरीदी। छठा मील पर गणेश यादव और कल्लू यादव की चाय की दुकान पर भी रूककर श्री अखिलेश यादव ने चाय पी। यहां श्री सुनील यादव, गणेश यादव के साथ तमाम लोग श्री यादव के दर्शन के लिए इकट्ठे हो गए। सब यही कह रहे थे कि श्री अखिलेश यादव की सरकार आना जरूरी है ताकि प्रदेश में खुशहाली आए और विकास कार्य हों। किसान, नौजवानों का तभी फायदा होगा और तभी अवरूद्ध विकास कार्य पुनः प्रारम्भ हो सकेंगे।