September 19, 2021

DVNA

Digital Varta News Agency

सुबह के उनींदे फूलों पर यह ताजा मुस्कान पत्तियों पर चमकती

सुबह के उनींदे फूलों पर
यह ताजा मुस्कान
पत्तियों पर चमकती
ओस की चंद पाकीजा बूंदे
हवा में आहिस्ता उठती
कोई रहस्यमयी गंध
आंखों में गहरे धंसते
कई सारे रंग
और उन रंगों से झांकते
विरह के गीले, अबूझ शब्द
क्या पता ये फूल हैं
या अकेली, उदास पृथ्वी के
मासूम से प्रेमपत्र
जिन्हें पढ़कर अभी-अभी
आकाश ने बहाए हैं
कुछ बूंद आंसू !
ध्रुव गुप्त