April 18, 2021

DVNA

Digital Varta News Agency

सामुदायिक शौचालयों में गड़बड़ी पर डीपीआरओ पर आफत, मिली चेतावनी

बांदा। डीवीएनए
ग्राम पंचायतों में सामुदायिक शौचालयों का निर्माण शासन के मानकों के अनुरूप नहीं हो रहे। लापरवाही और कथित भ्रष्टाचार की पराकाष्ठा है। इस गड़बड़ी पर उपनिदेशक पंचायतने कड़ी नाराजगी जताई है। जिला पंचायत राज अधिकारी को चेतावनी दी है कि शौचालयों के निर्माण में मानकों की अनदेखी पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। आपको अवगत हो की चित्रकूटधाम मंडल में 1249 सामुदायिक शौचालयों का निर्माण कराया जाना है। सबसे ज्यादा 335 शौचालय चित्रकूट जिले में बनाए जा रहे हैं।
गांवों को खुले में शौच मुक्त बनाने के लिए व्यक्तिगत शौचालयों के साथ ही ग्राम पंचायतों में सामुदायिक शौचालय बनाए जा रहे हैं। इनके निर्माण के लिए शासन से मानक और डिजाइन निर्धारित है।
उपनिदेशक (पंचायत) दिनेश सिंह ने बताया कि अधिकांश सामुदायिक शौचालयों में मानकों की अनदेखी की जा रही है। जहां ब्रिक लाइनिंग नहीं है, वहां डीपीआरओ दो दिन के अंदर पूरा कराएं। पूरा न होने पर संबंधित प्रधान व सचिव जिम्मेदार होंगे। एडीओ पंचायत की भी जवाबदेही तय की जाएगी। चित्रकूटधाम मंडल में 1249 सामुदायिक शौचालयों का निर्माण कराया जाना है। इनमें बांदा में 312, चित्रकूट में 335, महोबा में 272, हमीरपुर में 330 शौचालय शामिल हैं। 19 अक्टूबर को मुख्यमंत्री ने बांदा के 216, चित्रकूट के 254, महोबा के 145 और हमीरपुर के 268 शौचालयों का लोकार्पण किया था। पंचायतों में अभी शेष शौचालयों का निर्माण कराया जा रहा है।
संवाद विनोद मिश्रा