May 13, 2021

DVNA

Digital Varta News Agency

टीम इंडिया में जगह बनाने के करीब हैं बिहार का इशान किशन: आरके श्रीवास्तव

पटना (डीवीएनए)। शिक्षक आरके श्रीवास्तव ने कहा टीम इंडिया में जगह बनाने के करीब हैं बिहार का इशान किशन, टीम इंडिया को एक मजबूत विकेटकीपर बल्लेबाज की तलाश है। सीमित ओवरों में फिलहाल केएल राहुल और ऋषभ पंत टीम का हिस्सा हैं लेकिन इशान किशन ने जिस तरह आईपीएल में प्रदर्शन किया है वह एक मजबूत दावेदार के रूप में सामने आए हैं।

बिहार के रहने वाले ईशान किशन झारखंड के तरफ से खेलते है। झारखंड के इस युवा विकेटकीपर बल्लेबाज ने मौकों का भरपूर फायदा उठाया। पूरे सीजन में किशन ने 516 रन बनाए। वह मुंबई के लिए सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज रहे। किशन का यह सीजन शानदार रहा और अब वह भारतीय टीम में जगह बनाने के काफी करीब पहुंच चुके हैं। 

इंडियन प्रीमियर लीग 2020 में इशान किशन ने कुल 30 छक्के लगाए। इस लिस्ट में वह इस साल सबसे ऊपर रहे। लेकिन इसमें एक शॉट जो लंबे समय तक याद किया जाएगा वह दिल्ली कैपिटल्स के खिलाफ पहले क्वॉलिफायर में एनरिच नॉर्त्जे के खिलाफ लगाया गया शॉट। झारखंड के इस बाएं हाथ के विकेटकीपर बल्लेबाज ने वाइट फुल टॉस को एक्स्ट्रा कवर के ऊपर सीमा रेखा के पार भेजा था। 

बल्लेबाजी में है कैरेबियन टच
टीम इंडिया के पूर्व बल्लेबाज और हाल ही में राष्ट्रीय चयनकर्ता के रूप में अपना कार्यकाल समाप्त करने वाले जतिन परांजपे ने इशान किशन की खूब तारीफ की। उन्होंने कहा, ‘वह कई बार मुझे वेस्टइंडीज के पूर्व सलामी बल्लेबाज रॉय फेड्ररिक्स की याद दिलाते हैं, जो शानदार हुक शॉट लगाया करते थे। किशन की बैटिंग में थोड़ा सा कैरेबियन टच है।’

‘पराक्रमी’ हैं इशान
परांजपे ने हमारे सहयोगी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया से कहा, ‘सिक्स लगाने की उनकी लगन बताती है कि वह एक बहादुर खिलाड़ी हैं। एक शब्द में आईपीएल में उनके खेल की बात की जाए तो वह शब्द ‘पराक्रम’ होगा। याद रखिए वह सितारों से सजी मुंबई इंडियंस की टीम के लिए खेल रहे हैं। इसका दबाव आप पर नजर आ सकता है। आप यह सोच सकते हैं कि अगर मैं आउट भी हो गया तो कायरन पोलार्ड अथवा सूर्यकुमार यादव या रोहित शर्मा मैच जितवा सकते हैं। हालांकि उसके पास खुद को यह कहने का दम था- ‘नहीं, मैं मैच खत्म करूंगा।’ बल्लेबाज के रूप में मैं काफी समय से ईशान को देख रहा हूं। उनका तकनीकी आधार काफी मजबूत है। उनका सिर सही पोजीशन में रहता है। उनका बैट फ्लो और बैक लिफ्ट काफी अच्छी है। बैकलिफ्ट बल्लेबाजी का आधार होती है। और स्वभाव से वह आक्रामक बल्लेबाज हैं।’

टीम इंडिया में जगह बनाने के करीब हैं इशान
बिहार के शिक्षक आरके श्रीवास्तव का मानना है कि वह दिन दूर नहीं जब ईशान किशन टीम इंडिया का हिस्सा होंगे। पूर्व विकेटकीपर और मुख्य चयनकर्ता रहे एमएसके प्रसाद ने कहा, ‘इस खिलाड़ी को खेलते देखना शानदार अनुभव है। उनका आईपीएल शानदार रहा। पहले नंबर चार पर बल्लेबाजी करना और फिर पारी की शुरुआत करना उनका हालात के हिसाब से खुद को ढालना और उनकी मानसिक मजबूती को दिखाता है। परिस्थिति के हिसाब से अपनी बल्लेबाजी में बदलाव कर पाने की उनकी कला बेशक उन्हें सीमित ओवरों के प्रारूप में बतौर विकेटकीपर बल्लेबाज भारतीय टीम के लिए उनका दावा बहुत मजबूत करती है। अगर वह विकेटकीपिंग भी करते हैं और जिस तरह आईपीएल में बल्लेबाजी की वैसे बल्लेबाजी भी करते हैं, तो वह राष्ट्रीय टीम में जल्द अपनी जगह बना सकते हैं।’


अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के लिए तैयार
परांजपे ने कहा, ‘क्षमताओं और संभावनाओं की बात करें तो वह भारतीय टीम के लिए तैयार हैं। बात सिर्फ किसी को टीम में चुनने की ही नहीं है। आपको देखना होता है, ‘टीम को फिलहाल किस तरह के खिलाड़ी की जरूरत है? अगर आपने किसी खिलाड़ी को 15 में चुना है तो क्या उसने 11 में जगह मिलने की संभावना है या वह सिर्फ जगह भरने के लिए है?’ किसी खिलाड़ी को चुनने का यह एक अहम हिस्सा होता है। यह देखना बेहद अहम होता है कि क्या इस समय टीम को उसकी जरूरत है। क्वॉलिटी की बात करें तो इसमें कोई शक नहीं कि वह अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के लिए पूरी तरह तैयार है। 

कौन है आरके श्रीवास्तव जिसने ईशान किशन को बताया भारतीय क्रिकेट का भविष्य

बिहार के रोहतास जिले के रहने वाले आरके श्रीवास्तव देश में मैथेमैटिक्स गुरु के नाम से मशहूर हैं। खेल-खेल में जादुई तरीके से गणित पढ़ाने का उनका तरीका लाजवाब है। कबाड़ की जुगाड़ से प्रैक्टिकल कर गणित सिखाते हैं। सिर्फ 1 रुपया गुरु दक्षिणा लेकर स्टूडेंट्स को पढ़ाते हैं। आर्थिक रूप से सैकड़ों गरीब स्टूडेंट्स को आईआईटी, एनआईटी, बीसीईसीई सहित देश के प्रतिष्ठित संस्थानों में पहुँचाकर उनके सपने को पंख लगा चुके हैं। वर्ल्ड बुक ऑफ रिकॉर्डस और इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड में भी आरके श्रीवास्तव का नाम दर्ज है। आरके श्रीवास्तव के शैक्षणिक कार्यशैली की प्रशंसा राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद भी कर चुके हैं। इनके द्वारा चलाया जा रहा नाइट क्लासेज अभियान अद्भुत, अकल्पनीय है। स्टूडेंट्स को सेल्फ स्टडी के प्रति जागरूक करने लिये 450 क्लास से अधिक बार पूरी रात लगातार 12 घंटे गणित पढ़ा चुके हैं। इनकी शैक्षणिक कार्यशैली की खबरें देश के प्रतिष्ठित अखबारों में छप चुकी हैं, विश्व प्रसिद्ध गूगल ब्वाय कौटिल्य के गुरु के रूप में भी देश इन्हें जानता है।

डिजिटल वार्ता/फैज़ान