April 20, 2021

DVNA

Digital Varta News Agency

मैं एक मशहूर परिवार की हो सकती हूं, लेकिन सेल्फ़ मेड होना महत्वपूर्ण है: टियारा धोडी

मुंबई (डीवीएनए)। मॉडल, डिज़ाइनर और लेखिका टियारा धोडी ने बताया कि किस तरह वह अपने दम पर कुछ करने वाली एक महिला के रूप में पहचान बनाना चाहती हैं

फैशन एन्ड ज्वेलरी डिज़ाइनर और सोशलाइट क्वीनी सिंह और राजा धोडी की बेटी टियारा धोडी की पहचान सिर्फ यह नहीं है कि वह केवल मशहूर माता-पिता की बेटी हैं बल्कि वह एक क्रिएटिव और प्रतिभाशाली डिजाइनर हैं जिन्होंने हाल ही में पुरुषों के आभूषण संग्रह का शुभारंभ किया। जी हाँ, आपने सही पढ़ा उन्होंने मेन्स ज्वेलरी कलेक्शन लांच किया है. वह महिलाओं के लिए रेडी टू वियर ‘प्रेट लाइन’ तैयार करने में लगी हुई हैं। उनका कहना है “बेशक, अपने माता-पिता की तरह रचनात्मक होना और अपना कारोबार शुरू करने का हुनर होना मेरे खून में है, लेकिन छत्र छाया से बाहर निकलना और अपने दम पर कुछ करना भी महत्वपूर्ण है। इसीलिए मुझे लगा कि पुरुषों के आभूषण के क्षेत्र में प्रयोग करना दिलचस्प होगा। “

महामारी के दौरान, जब लॉकडाउन जारी था, टियारा ने दस्ताने (ग्लोव्स) की एक विशेष किस्म भी डिजाइन की और आधुनिक उपभोक्ताओं के लिए इसे बनाया। उन्होंने कहा, “मैंने महसूस किया कि महामारी के दौरान दस्ताने उतने ही महत्वपूर्ण हैं जितने मास्क। और अगर मास्क को अपडेट किया गया है और डिजाइनरों द्वारा मेकओवर दिया गया है, तो दस्ताने को क्यों नहीं? दस्ताने भी एक दिलचस्प एसेसरी हैं और सिर्फ साधारण दस्ताने पहनने से पोशाक के लिए कोई फायदा नहीं होता है। मैंने महसूस किया कि यह महत्वपूर्ण था कि दस्ताने में भी एक बदलाव लाया जाए।”

डिजाइनिंग करने और रचनात्मक होने के अलावा, टियारा लिखना भी पसंद करती हैं और अपने विचारों को वह कागज पर उतारने में आनंद लेती हैं। उन्होंने पांच साल पहले एक किताब भी लिखी थी जो कई लघु कहानियों का संग्रह था। इसका शीर्षक है ‘अनमास्क’, यह किताब महिलाओं के मुद्दों, उनकी अभिव्यक्ति में असमर्थता, उनके दबाव और उनके कमजोर पड़ने से निपटने के इर्द-गिर्द घूमती है। यह पुस्तक लोकप्रिय लेखिका और स्तंभकार शोभा डे और व्यवसायी, लेखक और कॉलम राईटर सुहेल सेठ द्वारा लॉन्च की गई थी। टियारा धोडी ने कहा, “मुझे यह दृढ़ता से महसूस हुआ कि महिलाओं के मुद्दों को उजागर करने की आवश्यकता है। यह केवल उनके अधिकारों के बारे में नहीं है, बल्कि यह भी है कि वे अपने जीवनकाल के दौरान विभिन्न चीजों में अपनी राय देने में असमर्थ हैं और अपनी जिन्दगी में वे कई चीजों में समझौता करती हैं। मेरी लघु कहानियां महिलाओं की उन्ही समस्याओं के आसपास घूमती हैं। फिलहाल, मैं अपनी दूसरी किताब पर भी काम कर रही हूं और यह किताब भी जल्द ही पब्लिश हो जाएगी। ‘

आपको बता दें कि टियारा धोडी ने कुछ समय पहले अपनी खुद की कला प्रदर्शनी भी आयोजित की थी। देखा जाए तो टियारा धोडी मल्टी टैलेंटेड हस्ती का नाम है.