August 5, 2021

DVNA

Digital Varta News Agency

शव मिलने के 48 घंटे बाद भी पुलिस को नहीं लगासुराग

बांदा-डीवीएनए।हत्या के बाद किसान के हाथ-पैर बांधकर शव नदी में फेंके जाने के मामले में पुलिस की तीन टीमें सुरागरसी कर रही हैं। शव मिलने के 48 घंटे बाद भी हत्यारे पकड़ में नहीं आए हैं। पुलिस अंधेरे में अभी तीर चला रही है। गांव जाकर पुलिस ने ग्रामीणों के बयान नोट किए हैं।
जसपुरा थाना क्षेत्र के ग्राम बुधेड़ा निवासी दो दिन से लापता किसान रघुबीर निषाद के 45 वर्षीय पुत्र शिवनारायण निषाद का शव रविवार सुबह ग्रामीणों को यमुना नदी किनारे पानी में पड़ा मिला था। मृत किसान के हाथ-पैर साफी से बंधे होने के साथ उसके बीच में एक डंडा फंसा था। एसपी अभिनंदन समेत अन्य पुलिस अधिकारियों ने घटनास्थल का मौका मुआयना किया था। उनके निर्देश पर थाने की तीन टीमें सीओ सत्यप्रकाश के निर्देशन में हत्यारों की सुरागरसी कर रही है। पुत्र के अज्ञात लोगों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कराने से पुलिस अभी किसी नतीजे में नहीं पहुंच सकी है। दूसरे दिन और तीसरे दिन सोमवार-मंगल को भी पुलिस ने गांव में घटना के संबंध में टोह ली।
अलग-अलग कई ग्रामीणों को बुलाकर मृतक से संबंधित जानकारी जुटाने का प्रयास किया है। मृत किसान के स्वजन से भी पूछताछ की है। सीओ सदर सत्यप्रकाश ने बताया कि घटना से जुड़े हर पहलू पर जांच की जा रही है। शीघ्र हत्यारों को गिरफ्तार कर जेल भेजा जाएगा।
पुलिस ने बताया कि जिस किसान का शव मिला है। वह अपना खुद का मोबाइल नहीं रखता था। लेकिन अपने पुत्र दीपक का मोबाइल जरुर इस्तेमाल करता रहा है। पुलिस पुत्र व अन्य संबंधित लोगों के मोबाइल की सीडीआर खंगाल रही है। जिससे घटना से जुड़े नए तथ्य सामने आ सकें। हत्यारों को गिरफ्तार कर घटना का पर्दाफाश किया जा सके।
शव मिलने के बाद पुलिस गांव के एक परिवार के सदस्यों को सबसे पहले थाने ले गई थी। पूछताछ के बाद उन्हें पुलिस ने छोड़ा है। इसके अलावा गांव के अन्य कई संदिग्धों को अभी तक पुलिस थाने में पूछताछ कर चुकी है। लेकिन पुलिस अभी तक किसी ठोस नतीजे में नहीं पहुंची है।
संवाद विनोद मिश्रा