October 27, 2021

DVNA

Digital Varta News Agency

सीएमओ में नौकरी के नाम पर साढ़े पांच लाख ठगे

इंदौर (डीवीएनए)। सीएमओ में सरकारी नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी का मामला सामने आया है। पुलिस ने एक महिला समेत चार लोगों पर केस दर्ज किया है। आरोपियों ने बताया था कि भोपाल के सतपुड़ा और वल्लभ भवन में अफसरों से उनकी पहचान है। चपरासी की नियुक्ति कराने के लिए फरियादी से 5.5 लाा रुपए हड़प लिए, बाद में बाबू पद का फर्जी नियुक्ति पत्र थमा दिया। पुलिस के मुताबिक मनीष होइफोड निवासी नॉर्थ गाडराखेड़ी की शिकायत पर हरजीत कौर उर्फ रानी, उसके पति बलजीत सिंह निवासी भोपाल, यशपाल सिंह लेल उर्फ सोनू निवासी स्कीम 51, इंदौर और सलमान पिता यूसुफ के खिलाफ केस दर्ज किया है। मनीष ने बताया कि नौकरी दिलाने का झांसा दिया था।
आरोपियों ने यशपाल सिंह के घर पर किश्तों में करीब साढ़े पांच लाख रुपए ले लिए थे। जांच में सामने आया, हरजीत कीर ने वल्लभ भवन में संबंध होने की बात कही थी। शुरुआत में तीन लाख रुपए ले लिए थे। बाद में सतपुड़ा भवन का फर्जी नियुक्ति पत्र पकड़ा दिया गया। पीडि़त ने थाने में शिकायत कर दी। मनीष और यशपाल के दोस्त हैं। वर्ष 2018 में यशपाल ने मनीष से कहा कि बरखेड़ी भोपाल में रहने वाली बुआ रानी के वल्लभ भवन में पहचान है। तेरी नौकरी लग जाएगी, पैसा लगेगा। मनीष 12वीं पास है। उसने दस्तावेजों के साथ तीन लाख रुपए दे दिए। इसी बीच कहा गया कि और खर्चा लगेगा। मनीष ने होम क्रेडिट और एचडीएफसी बैंक से कर्ज ले लिया। भाई और पिता की जमापूंजी भी दे दी। करीब साढ़े पांच लाख रुपए दे दिए।
ठगों ने मनीष को सतपुड़ा भवन में बाबू पद पर नियुक्ति का फर्जी लैटर दे दिया। पहले उसे चपरासी बनाने के लिए कहा था। बाबू का लैटर देकर दोस्त बोला कि तेरी किस्मत चमक गई। नौकरी ज्वाइन करने भोपाल पहुंचा, तो जानकारी मिली- लेटर फर्जी है। मनीष ने यशपाल से बात की, तो वो कहने लगा कि अगर तुम रिपोर्ट लिखाओगे तो पैसा नहीं मिलेगा।