August 6, 2021

DVNA

Digital Varta News Agency

भारत बंद का समर्थन करने वाले पूर्व विधायक विजय यादव को किया नज़रबंद

मुरादाबाद। डीवीएनए
भारत बंद का समर्थन कर रहे पूर्व विधायक विजय यादव को उनके ही आवास पर नज़र बन्द किया गया। पूर्व विधायक ने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि ये लोकतंत्र की हत्या है सरकार अंग्रेज़ी हुकूमत की तरह काम कर रही है और पुलिस के बल पर लोगों की आवाज़ को दबाया जा रहा है।

मंगलवार को किसान आंदोलन में भारत बंद की कोशिश को नगर में प्रशासन ने पूरी तरह नाकाम कर दिया है। इस दौरान पूर्व विधायक विजय यादव के आवास पर सैकड़ो कार्यकर्ताओं के एकत्र होने की खबर मिलते ही पुलिस क्षेत्राधिकारी अनूप यादव, तहसीलदार धर्मेंद्र कुमार, कोतवाली प्रभारी सतेंद्र सिंह, व भारी संख्या में पुलिस बल भी पूर्व विधायक के आवास पर जा पंहुचा और पूर्व विधायक को उनके ही घर पर नज़र बन्द कर दिया गया। इस दौरान पूर्व विधायक समर्थकों ने सरकार के विरुद्ध जमकर नारेबाजी की। नज़र बन्द हुए पूर्व विधायक ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि वह खुद एक किसान हैं और किसानो के हक की लड़ाई को हर हाल में जारी रखेंगे, उन्होंने कहा कि किसानों के हक की आवाज़ को उठाने से रोकने में सरकार अंग्रेज़ी हुकूमत की तरह काम कर रही है और पुलिस के बल पर सरकार लोकतंत्र की हत्या कर रही है।उन्होंने कहा कि कोरोना काल मे चोरी से किसान विरोधी बिल लाकर बिना सदन में बहस कराये और बिना किसान संगठनों से बात किये उसे आनन फानन में कानून बना दिया गया है। कुछ किसान अभी नींद में हैं और वह इसे समझ नहीं पा रहे हैं जबकि ये किसानो की बर्बादी वाला कानून है।

पूर्व विधायक ने कहा कि वह आज चक्का जाम करते लेकिन उनकी आवाज़ को दबाया जा रहा है और किसी भी तरह से गैर संवैधानिक तथा अलोकतांत्रिक है। बाद में पूर्व विधायक ने पुलिस क्षेत्राधिकारी को ज्ञापन सौंपा जिसमे किसान विरोधी कानून को वापस लेने की मांग की गई है। इस मौके पर पूर्व विधायक के आवास पर मनोहर प्रधान, बुंदु खान, मोहब्बत प्रधान,नफीस, अतीक अहमद, आशाराम, कृपाल सिंह, अली अहमद, मानू, जाकिर अली, आसिब, आदि सैकड़ो लोग मौजूद रहे।उधर भारत बंद का समर्थन करते हुए अखिल भारतीय किसान मजदूर सभा के दर्जनों कार्यकर्ताओं ने नगर में जुलूस निकालकर तिकोनिया बस स्टैंड पर पंहुचकर काशीपुर मुरादाबाद मार्ग पर सड़क पर जाम लगाकर सरकार के विरुद्ध जमकर नारेबाजी की। हालांकि मोके पर पंहुची कोतवाली पुलिस ने चन्द मिनटों में ही जाम खुलवा दिया।इस दौरान जुलूस निकालकर प्रदर्शन करने वालो में प्रीतम सिंह, कैलाश सिंह, कामरेड करन सिंह, डॉ सईद अहमद सिद्दीकी, हाजी भूरे हुसैन अंसारी,हाजी कल्लू, गुलशेर अली आदि अनेक कार्यकर्ता मौजूद रहे।
संवाद यामीन विकट