October 27, 2021

DVNA

Digital Varta News Agency

मैंने बॉलीवुड की रूढिय़ों को चुनौती दी: विद्या बालन

विद्या बालन ने अपनी भूमिकाओं से बॉलीवुड की रूढिय़ों को बार-बार चुनौती दी है, अपने किरदारों को दमदार अभिनय के साथ जिया है। अभिनेत्री का कहना है कि यह ऐसा कुछ नहीं था जो उन्होंने होशपूर्वक किया।

जब से उन्होंने 2005 में ‘परिणीता के साथ बॉलीवुड में अपनी शुरूआत की, विद्या ने ‘भूल भुलैया’, ‘नो वन किल्ड जेसिका’, ‘द डर्टी पिक्चर’, ‘पा’, जैसी फिल्मों में अपने काम से हिंदी दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया। ‘कहानी’, ‘इश्किया’, ‘मिशन मंगल’, ‘तुम्हारी सुलु’ और ‘शकुंतला देवी’। वह अगली बार ‘न्यूटन’ निर्माता अमित मसुरकर की ‘शेरनी’ में दिखाई देंगी, जो उन्हें एक वन अधिकारी के रूप में पेश करेगी।
राष्ट्रीय पुरस्कार और पद्मश्री से नवाजी गई विद्या ने कहा, मैं रूढि़वादिता को तोडऩे के लिए तैयार नहीं थी, लेकिन मुझे लगता है कि जीवन में अपने अनुभवों के माध्यम से, विशेष रूप से एक अभिनेता के रूप में, मैंने महसूस किया है कि मैं अपने रास्ते में कुछ भी आने नहीं दूंगी।
42 वर्षीय अभिनेत्री ने आगे कहा, तो अगर आप मुझे बताते हैं कि मैं एक अभिनेता होने के लिए बहुत छोटी हूं और बहुत मोटी हूं। मैं बहुत बोल्ड हूं, बहुत बेशर्म या बहुत बुद्धिमान हूं या जो भी हूं , मैं सिर्फ रेन्डम बातें कह रही हूं, मैं नहीं बदल सकती कि मैं कौन हूं लेकिन मैं अभी भी अपना रास्ता खोज सकती हूं।
उन्होंने कहा, मैं जो करती हूं उसके लिए मैंने खुद में जुनून देखा है क्योंकि मैं वास्तव में अपने बारे में कुछ भी नहीं बदल सकती, इसलिए मैंने रूढिय़ों को तोडऩे के लिए खुद को तैयार नहीं किया। मैंने सिर्फ इतना कहा कि अगर यह काम नहीं करता है, तो बहुत बुरा है इसे काम करना होगा, क्योंकि मैं इसके लिए काम करने जा रही हूं। इसे काम करना है क्योंकि मैं एक अभिनेता बनना चाहती हूं।
अभिनेत्री, जिसने 16 साल की उम्र में सिटकॉम ‘हम पांच’ में अभिनय किया और सिटकॉम में राधिका की भूमिका निभाई, ‘एक सचेत दिमाग के साथ स्टीरियोटाइप को चुनौती नहीं दी।’
उन्होंने कहा तो, मुझे लगता है कि उन रूढिय़ों को जानबूझकर नहीं बल्कि शायद अनजाने में चुनौती दी गई थी।
वर्तमान में, वह ‘शेरनी’ की रिलीज का इंतजार कर रही है, जहां वह पितृसत्तात्मकसमाज द्वारा निर्धारित सामाजिक बाधाओं और अपने विभाग के भीतर कमजोर रवैये से जूझ रही एक ईमानदार वन अधिकारी की भूमिका निभाती है।
‘हम में से हर एक शेरनी है, लेकिन यह कहलाना बहुत अच्छा लगता है! वह मुस्कुराई, और आगे कहा, वे सभी महिलाएं हैं जो अपने काम से अपनी पहचान बनाती हैं। वे अपने काम के प्रति बहुत भावुक हैं, क्योंकि मुझे लगता है कि मैं भी वह महिला हूं। इसलिए, मैं इन पात्रों की ओर बढ़ रही हूं। मुझे उद्देश्य वाली महिलाएं पसंद हैं और इसलिए मैं उन्हें चुनती हूं।
विद्या ने आगे कहा, जितना अधिक मैं अपने चारों ओर देखती हूं, हम में से ज्यादा से ज्यादा उस उद्देश्य को ढूंढ रहे हैं, अपने सपनों को जी रहे हैं। मुझे लगता है कि यह हमारे आसपास की दुनिया में क्या हो रहा है इसका भी प्रतिबिंब है क्योंकि सिनेमा वास्तविकता का प्रतिबिंब है।
‘शेरनी’ 18 जून को अमेजन प्राइम वीडियो पर डिजिटल रिलीज हुआ।