October 27, 2021

DVNA

Digital Varta News Agency

लद्दाख में फंसे 9 मजदूरों की हुई गांव वापसी, गांव में खुशी का माहौल

बहराइच (डीवीएनए)। विकास खण्ड मिहींपुरवा अंतर्गत चहलवा ग्राम पंचायत के एक दर्जन से अधिक मजदूर लेह लद्दाख गए हुए थे। वहां पर एयरपोर्ट के टर्मिनल का अतिरिक्त भाग बन रहा था उसमें उन्हें ठेकेदार के मार्फत पर काम कर लगाया गया था। एक माह काम चलने के बाद में जब हवाई अड्डे पर तैनात सभी कर्मचारियों और मजदूरों का कोरोना टेस्ट हुआ तो 57 लोग कोरोना पाजिटिव निकले। जिससे पूरे हवाई अड्डे को रेडजोन घोषित कर दिया गया। लाकडाउन बढ़ते बढ़ते एक माह के पार हो गया। लाक डाउन हो जाने के कारण मजदूरों को भुखमरी का सामना करने की नौबत आ गई क्योंकि लेह शहर हवाई अड्डे से 3 किलोमीटर की दूरी पर था और मजदूरों को बाहर जाने की मनाही थी। यदि मजदूर एक बार हवाई अड्डे से बाहर जाते तो दुबारा उन्हें वापस प्रवेश नहीं मिलता।
मजदूरों ने ठेकेदार से बात कर के पैसे की मांग की तो उसने कहा कि हम तुम लोगों को वापस जाने का किराया नहीं देंगे और न ही कोई खर्चा। कुछ दिन बाद ठेकेदार मजदूरों को छोड़ कर भाग गया। ऐसे में खाली हाथ बैठे मजदूरों के सामने बड़ी कठिन समस्या आ गई थी। उन्हें कोई रास्ता नहीं सूझ रहा था। उनमें से एक मजदूर उपेंद्र ने गिरिजापुरी निवासी सामाजिक कार्यकर्ता जंग हिंदुस्तानी से फोन पर बात की। इसके बाद जंग हिंदुस्तानी ने लेह के सांसद जामियांग शेरिंग नाम्गयाल से उनके मोबाइल पर बातचीत की और मदद की मांग की। यह एक बड़ा मुद्दा था क्योंकि एक व्यक्ति की वापसी पर करीबन 8000 रुपए से अधिक खर्च होने थे। इसके लिए जंग हिंदुस्तानी ने सोशल मीडिया के माध्यम से उन मजदूरों से मदद के लिए गुहार लगाई। लेह के सांसद ने मजदूरों से बात करके उन्होंने पूरी मदद की और स्वयं एयरपोर्ट पर मौजूद रहकर सभी अधिकारियों से सहयोग से मजदूरों की हवाई यात्रा का प्रबंध कराया।
वापस लौटे मजदूरों में उपेन्दर पुत्र कन्हैया लाल, महातम पुत्र सरजू, सुनील पुत्र महातम, ओम प्रकाश पुत्र राजेन्द्र, सन्तोष कुमार पुत्र राजेन्द्र, सन्तोष पुत्र अदालती, जवाहर, सतेन्दर, लालबहादुर आदि ने घर पहुंच कर खुशी जताई है और लेह के सांसद जामियांग, सामाजिक कार्यकर्ता जंग हिंदुस्तानी तथा सभी मददगारों को धन्यवाद दिया है।