April 14, 2021

DVNA

Digital Varta News Agency

बेनीगंज ईदगाह में हुआ मेराज-ए-मुस्तफा जलसा

गोरखपुर (डीवीएनए)। अल बरकात व बेनीगंज ईदगाह रोड मस्जिद की ओर से ईदगाह बेनीगंज में अजमते मेराज-ए-मुस्तफा जलसा हुआ। तसनीम अजीज, इफ्रा खातून, अलीजा खातून, रेशमा खातून, जोया महमूद, दरख्शां खातून, परवीन फातिमा, रौशनी खातून, हरीम, मो. फैसल, मो. अनस, मो. जोहैब, शहनूर फातिमा आदि बच्चों ने किरात, नात, तकरीर आदि के जरिए अपनी प्रतिभा दिखाई। जलसा संयोजक कारी मो. शाबान बरकाती, हाजी खुर्शीद व इकरार अहमद ने बच्चों को इनाम व दुआओं से नवाजा।
इसके बाद अजमते मेराज-ए-मुस्तफा जलसे में मुफ्ती अख्तर हुसैन मन्नानी (मुफ्ती-ए-शहर), कारी अफजल बरकाती, कारी आबिद अली निजामी, मौलाना मो.जिब्राइल आदि उलेमा-ए-किराम ने शब-ए-मेराजुन्नबी के फजाइल बयान किए। कहा कि दीने इस्लाम ने नाप तोल में कमी, सूद, रिश्वत, जुआ, शराब और दूसरी नशे वाली चीजों को हराम करार दिया है, ताकि इन हलाक करने वाली बीमारियों से बचकर एक अच्छे व पाक साफ समाज को वजूद में लाया जा सके। दीन-ए-इस्लाम में झूट, गीबत, बुरी बात, किसी शख्स को गाली या धोखा देना, तकब्बुर, फुजूलखर्ची जैसी आम बुराइयों को खत्म करने की खुसूसी तालीमात दी गई है। समाज के नासूर यानी दहेज के लेन देन के बजाये सादगी के साथ निकाह करने की तरगीब दी है। दीन-ए-इस्लाम हर शख्स के सामान की हिफाजत करता है, चुनांचे चोरी, डकैती या किसी के माल को नाहक लेने को हराम करार दिया है। दीन-ए-इस्लाम गरीबों, मिस्कीनों और जरूरतमंदो का पूरा खयाल रखता है, चुनांचे मालदारों पर जकात व सदकात को वाजिब करने के साथ यतीम और बेवाओं की किफालत करने की बार-बार तालीम दी गई। दीन-ए-इस्लाम ने जकात का ऐसा निजाम कायम किया है कि दौलत चन्द घरों में सिमट कर न रह जाये। गरीब लोगों के गम में शरीक होने के लिये रोजे फर्ज किये, ताकि भूख प्यास की सख्ती का एहसास हो। अल्लाह तआला की अजीम नेमतों जैसे पानी आग और हवा की कद्र करने की तालीम दी गई।
कुरआन-ए-पाक से तिलावत का आगाज हुआ। नात-ए-पाक पेश की गई।
जलसे में मो. शमीम, मो. यूनुस, अकबर अली, बब्लू सलीम, मो. नदीम, मो. असलम, मो. फिरोज, मो, इब्राहिम, असगर अली, समीउल्लाह, अब्दुर्रहीम, अबरार अहमद, इसरार अहमद, अच्छू खान, काजी हसीबुल हसन आदि मौजूद रहे।