August 3, 2021

DVNA

Digital Varta News Agency

थाली में छोड़ रहे झूठा भोजन, तो जरूरतमंदों को मार रहे हकः प्रो. एसपी सिंह बघेल

आगरा। डीवीएनए
सांसद प्रो. एसपी सिंह बघेल ने उत्तर प्रदेश वेडिंग इंडस्ट्री समिति की पहल उतना ही लो थाली में, व्यर्थ न जाए नाली में का समर्थन किया है। शुक्रवार को लंगड़े की चौकी स्थित उत्सव मैरिज होम में आयोजित उत्तर प्रदेश वेडिंग इंडस्ट्री समिति की ओर से आयोजित व्यापारिक परिचर्चा और अभिनंदन समारोह में प्रो. बघेल विचार व्यक्त कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि समिति की इस पहल को प्रदेश में ही नहीं बल्कि पूरे देश में पुरजोर तरीके से लागू किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि वैवाहिक स्थलों में पहुंचने वाले मेहमानों को यह समझना होगा कि अगर हम थाली में झूठा भोजन छोड़ते हैंं, तो कई जरूरतमंदो का हक मार रहे हैं। इसके साथ ही उन्होंने भोजन के सर्विग स्टाफ को भोजन अधिकता में नहीं बनाए जाने की सलाह दी।

विशिष्ट अतिथि मेयर नवीन जैन ने कहा कि कोरोना काल में सघर्ष समिति की ओर जो प्रयास किए जा रहे हैं, वह सराहनीय हैं। उन्होंने कहा की पहली बार ऐसा हो रहा है कि वैवाहिक और मांगलिक आयोजनों के व्यापारियों को पहली बार एक प्लेटफॉर्म पर लाया गया है। मेयर जैन ने हर दिन शुभ के प्रयासों की प्रशंसा करते हुए कहा कि दिल्ली जैसे देश के तमाम बड़े शहरों में लोग अपनी सुविधा के अनुसार विवाह की तिथि तय करते हैं। हर दिन शुभ जैसे प्रयासों को अगर समिति पूरी तरह से लागू कराने में सफल होती है, तो सहालगों के दौरान घंटों तक लगने वाले जाम से काफी हद तक मुक्ति मिल सकेगी।

समारोह में सांसद प्रो. एसपी सिंह बघेल और मेयर नवीन जैन ने इतना लो थाली में व्यर्थ न जाए नाली में और हर दिन शुभ का पोस्टर विमोचन किया गया। इसके साथ ही समारोह में संघर्ष समिति की ओर से तैयार की गई गाइडलाइन को सर्वसम्मति से पारित किया गया। प्रो. एसपी सिंह बघेल और मेयर नवीन जैन का समन्वयक मनीष अग्रवाल ने स्मृति चिह्न देकर सम्मानित किया। संचालन संदीप उपाध्याय ने किया। इस दौरान संघर्ष समिति के संरक्षक रमाशंकर गोयल, व्यवस्थापक संजय अग्रवाल, वरिष्ठ पदाधिकारी पवन कुमार सियाराम, आशीष बंसल, तरुण अग्रवाल, भरत शर्मा, मोहन सैनी, संजय गोयल, कुलदीप पालीवाल, अनिल कुमार गोयल, विक्रांत शर्मा, सुनील शर्मा, जतिन अरोड़ा, शिविर जैन, निधि सोनी, महिमा शर्मा, स्वनिल कुलश्रेष्ठ, रामेश्वर परिहार, नंदू आसवानी आदि मौजूद रहे।

हर कीमत पर लागू करेंगे गाइडलाइन

हमारा मकसद संघर्ष समिति की पारित की गई गाईडलाइन को हर कीतम पर लागू करना है। जिस तरह से सांसद प्रो. एसपी सिंह बघेल और मेयर नवीन जैन ने समिति की ओर से शुरू किए गए मिशन की सरहाना की है, उससे यह साबित हो गया है कि निश्चित रूप से हम अपने मिशन में सौ फीसदी कामयाब हो सकेंगे।

मनीष अग्रवाल
समन्वयक
उत्तर प्रदेश वेडिंग इंडस्ट्री संघर्ष समिति

वैवाहिक स्थलों के बाहर लगाएंगे पोस्टर

हमने यह फैसला लिया है कि वैवाहिक स्थलों के बाहर उतना ही लो थाली में, व्यर्थ न जाए नाली में के पोस्टर लगाए जाएंगे। इसके साथ ही हर दिन शुभ जैसी प्रथा को लोगों तक पहुंचाने के लिए होर्डिंग्स और सोशल मीडिया के माध्यम से प्रचार किया जाएगा।

संजय अग्रवाल
व्यवस्थापक
उत्तर प्रदेश वेडिंग इंडस्ट्री संघर्ष समिति

हाईजेनिक भोजन को प्रेरित करेंगे

कैटर्सों की कोशिश रहेगी कि कोविड-19 के नियमों का पालन हरेक वैवाहिक स्थल पर लागू हो। इसके लिए सभी को अपनी जिम्मेदारी का पूरी ईमानदारी से निर्वाहन करना होगा। साथ ही लोगों को थाली में उतना ही भोजन लेने के लिए प्रेरित किया जाएगा, जितने की जरूरत हो।

पवन कुमार सियाराम
वरिष्ठ पदाधिकारी
उत्तर प्रदेश वेडिंग इंडस्ट्री संघर्ष समिति

आशा की नई किरन दिखी

कोरोना के बाद वैवाहिक समारोह के लिए पैदा हुई विपरीत परिस्थितयों से बाहर निकलने के लिए इस तरह की पहल से आशा की नई किरन दिखाई दी है। हमें यह भी सुनिश्ति करना होगा की सरकार की ओर से जारी की गई गाइडलाइन का भी पालन करें।

रमाशंकर गोयल
संरक्षक
उत्तर प्रदेश वेडिंग इंडस्ट्री संघर्ष समिति

नए अवसरों की तलाश

प्रदेश सरकार के सहयोग के बाद ग्राहकों को पुलिस से राहत मिली | अब नए अवसरों को तलाशा जा रहा है |

भरत शर्मा,
वरिष्ठ पदाधिकारी
उत्तर प्रदेश वेडिंग इंडस्ट्री संघर्ष समिति

सकारात्मक सन्देश जायेगा

मांगलिक कार्यो के लिए ‘हर दिन शुभ’ के नारे के साथ आगरा से पुरे देश में एक सकारात्मक सन्देश जायेगा | सालक की चुनिंदा तरीको की वजह से होने जा रही असुविधा से वेडिंग इंड्रस्टीज के व्यापारियों और ग्राहकों को राहत मिल सके |

संदीप उपाध्याय,
वरिष्ठ पदाधिकारी
उत्तर प्रदेश वेडिंग इंडस्ट्री संघर्ष समिति

ये जारी हुई गाइडलाइन

. जाम रोकने के लिए वैवाहिक स्थलों के बाहर पार्किंग की सुचारू व्यवस्था।

. सुरक्षा की दृष्टि से सिक्योरिटी गार्ड और सीसीटी कैमरों को दुरुस्त प्रबंधन।

. मेहमानों के लिए मास्क, थर्मल स्कैनिंग और सैनिटेइजेशन की व्यवस्था।

. कैटर्स और हलवाई अपने स्टाफ के स्वास्थ्य प्रशिक्षण कराएं।

. कम स्टाफ के साथ मैरिज होम पर अपनी किचन का संचालन करें।

. भोजन के काउंटर उचित दूरी पर लगें और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन हो।

. रात साढ़े दस बजे तक मेहमानों को भोजन पूरा करने की कोशिश।

. वैवाहिक समारोह से बाहर साउंड के आवाज बाहर नहीं जाए।

. बैंड व्यवसायी साउंड ट्राली का प्रयोग न करें। वैवाहिक स्थल में बैंड प्लेयर अंदर नहीं जाएं।

. बिजली की बचत के लिए लाइट डेकोरेटर्स रात 11 बजे बाद जरूरी लाइट ही जलाएं।