May 11, 2021

DVNA

Digital Varta News Agency

महापौर नवीन जैन ने डिप्टी सीएम से मुलाक़ात का आगरा की समस्याओ से अवगत कराया

आगरा(डीवीएनए )। महापौर नवीन जैन ने लखनऊ स्थित डिप्टी सीएम आवास पर उत्तर प्रदेश के माननीय उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा जी से मुलाकात की। इस दौरान महापौर ने आगरा की प्रमुख समस्याओं और उन योजनाओं के क्रियान्वयन को लेकर चर्चा की जिससे आगरा शहर के विकास के साथ-साथ पर्यटन क्षेत्र में भी आमूलचूल परिवर्तन हो सके।

मुलाकात के दौरान महापौर नवीन जैन ने उप मुख्यमंत्री के समक्ष आगरा में ताजमहल के डाउन स्ट्रीम नगला पेमा में बनाए जाने वाले रबड़ चेक डैम को लेकर चर्चा की। महापौर ने बताया कि वर्षों से पेयजल की समस्या से जूझ रही ताजनगरी के लिए समाधान करते हुए माननीय मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने रबड़ चेक डैम बनाए जाने के लिए शिलान्यास किया था लेकिन संबंधित विभागों से एनओसी न मिलने के चलते अभी तक यह योजना धरातल पर नहीं उतर पाई है जिससे ताजनगरी की पेयजल समस्या जस की तस बनी हुई है। शहर में गंगाजल आ जाने के बावजूद अभी भी कई ऐसे क्षेत्र हैं जो डार्क जोन में है। वहीं दूसरी ओर गर्मी का मौसम आने वाला है जिससे शहर में जल संकट और गहराएगा। इसलिए इसका स्थाई समाधान करने के लिए चेक डैम का निर्माण कार्य शुरू हो ना जरूरी है।

महापौर नवीन जैन ने बताया कि रबर चेक डैम बनने से न केवल शहर की पेयजल संकट दूर होगा बल्कि ताजमहल की भी सुरक्षा होगी। क्योंकि एक तरफ ताजमहल की प्रदूषण से रक्षा हो सकेगी वहीं ताज की कुआं आधारित नींव को नमी मिलेगी जो ताज को बचाए रखने के लिए सबसे जरूरी है। इसके अलावा जल संस्थान को भी पर्याप्त मात्रा में पानी मिल सकेगा जिससे शहर के कई क्षेत्रों में सप्लाई की जाती है।

इतना ही नहीं बैराज विकल्प के रूप में रबर चेक डैम बनने से यमुना नदी में पर्याप्त मात्रा में पानी की उपलब्धता रहेगी जिससे ताज के पीछे यमुना का दृश्य भी मनोहारी हो जाएगा। शहर के पर्यटन क्षेत्र को और विकास करने की दृष्टि से यहां पर स्ट्रीमर भी चलाए जा सकेंगे जिससे पर्यटकों की गतिविधियां बढ़ेगी।

इसके अलावा महापौर नवीन जैन ने उपमुख्यमंत्री के समक्ष स्कूल प्रशासन और बच्चों के अभिभावकों को बीच लॉकडाउन के दौरान से ही चल रही विरोधाभास गतिविधियों से अवगत कराया। महापौर नवीन जैन ने बताया कि एक तरफ अभिभावक कोरोना के चलते बंद रहे स्कूल के कारण फीस देने में असमर्थता जता रहे हैं जिससे फीस न देने के कारण कई बच्चों के स्कूल से नाम भी काट दिए गए हैं जबकि स्कूल प्रशासन कह रहा है कि हमने लॉकडाउन के दौरान ऑनलाइन क्लासेज चलाए, बच्चों को शिक्षा देने का भरपूर प्रयास किया। इसलिए फीस जमा करनी पड़ेगी। ऐसी स्थिति में कई बार स्कूल प्रशासन और अभिभावकों के बीच टकराव की स्थिति भी देखने को मिली। महापौर ने उपमुख्यमंत्री से यह निवेदन किया कि इस संबंध में आप मध्यस्थता कर शिक्षा विभाग को उपयुक्त दिशा निर्देश जारी करें जिससे स्कूल प्रशासन और बच्चों के अभिभावकों के बीच चल रहा यह गतिरोध समाप्त हो सके।
संवाद , दानिश उमरी