May 12, 2021

DVNA

Digital Varta News Agency

आगामी चरण में कोरोना फ्रंटलाइन वर्कर्स का वैक्सीनेशन किया जाए: योगी आदित्यनाथ

लखनऊ (डीवीएनए)। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश में कोविड वैक्सीनेशन अभियान को पूरी सक्रियता से संचालित करते हुए 05 फरवरी, 2021 तक हेल्थ वर्कर्स का टीकाकरण कार्य पूर्ण किए जाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि हेल्थ वर्कर्स के टीकाकरण के पश्चात अभियान के आगामी चरण में कोरोना फ्रंटलाइन वर्कर्स का वैक्सीनेशन किया जाए। इसके लिए डाटा बेस संकलन के कार्य को अन्तिम रूप देते हुए कोरोना फ्रंटलाइन वर्कर्स के टीकाकरण की सभी व्यवस्थाएं समय से सुनिश्चित की जाएं।
मुख्यमंत्री आज यहां लोक भवन में आहूत एक उच्चस्तरीय बैठक में अनलाॅक व्यवस्था की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि कोरोना वैक्सीनेशन अभियान के अन्तर्गत समस्त कार्यवाही भारत सरकार की गाइडलाइन्स, मानकों तथा क्रम के अनुसार की जाए। बैठक में अवगत कराया गया कि प्रदेश में आज हेल्थ वर्कर्स का कोविड वैक्सीनेशन किया जा रहा है।
मुख्यमंत्री ने कोविड-19 के टेस्टिंग कार्य को पूरी क्षमता से संचालित करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि सर्विलांस सिस्टम तथा काॅन्टैक्ट ट्रेसिंग की कार्यवाही सुचारु ढंग से सक्रिय रखी जाए। उन्होंने कोविड चिकित्सालयों की व्यवस्थाओं को प्रभावी बनाए रखने के निर्देश देते हुए कहा कि कोविड अस्पतालों में दवाओं, मेडिकल उपकरणों तथा आॅक्सीजन की बैकअप सहित पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित की जाए।
मुख्यमंत्री ने जनपदों में स्थापित इन्टीग्रेटेड कमाण्ड एण्ड कन्ट्रोल सेन्टर को पूरी सक्रियता से संचालित करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि कोविड-19 से बचाव के सम्बन्ध में लोगों को जागरूक किए जाने की कार्यवाही निरन्तर संचालित की जाए। ई-संजीवनी एप का व्यापक प्रचार-प्रसार करते हुए अधिक से अधिक लोगों को इस एप के माध्यम से आॅनलाइन चिकित्सीय परामर्श की सुविधा उपलब्ध कराई जाए।
बैठक में मुख्यमंत्री को अवगत कराया गया कि प्रधानमंत्री जन औषधि केन्द्र योजना के संचालन में उत्तर प्रदेश का देश में प्रथम स्थान है। मुख्यमंत्री जी ने योजना के अन्तर्गत प्रदेश की उपलब्धि पर संतोष व्यक्त करते हुए प्रधानमंत्री जन औषधि केन्द्र योजना को विस्तार प्रदान करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि इसके अन्तर्गत नए औषधि केन्द्रों की स्थापना कराई जाए। इससे जहां एक ओर जनता को और बेहतर व सुगम ढंग से कम दामों पर औषधियां उपलब्ध होंगी, वहीं दूसरी ओर नवीन औषधि केन्द्रों के संचालन से रोजगार के नए अवसर भी सृजित होंगे।
बैठक में चिकित्सा शिक्षा मंत्री सुरेश खन्ना, स्वास्थ्य राज्य मंत्री अतुल गर्ग, मुख्य सचिव आर0के0 तिवारी, अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास आयुक्त आलोक टण्डन, अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी, पुलिस महानिदेशक हितेश सी0 अवस्थी, अपर मुख्य सचिव वित्त संजीव मित्तल, अपर मुख्य सचिव राजस्व श्रीमती रेणुका कुमार, अपर मुख्य सचिव मुख्यमंत्री एस0पी0 गोयल, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद, अपर मुख्य सचिव चिकित्सा शिक्षा डाॅ0 रजनीश दुबे, अपर मुख्य सचिव पंचायतीराज एवं ग्राम्य विकास मनोज कुमार सिंह, अपर मुख्य सचिव कृषि देवेश चतुर्वेदी, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री एवं सूचना संजय प्रसाद, प्रमुख सचिव स्वास्थ्य आलोक कुमार, सचिव मुख्य मंत्री आलोक कुमार सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।