May 17, 2021

DVNA

Digital Varta News Agency

इस डीएम की पहल से सैकड़ो जनप्रतिनिधियों के नंगा होने के बन गये हालात

गाजीपुर। डीवीएनए

जिलाधिकारी एम पी सिंह के निर्देश पर  जनपद में भ्रष्टाचार एव वित्तीय अनियमितताओ पर अंकुश लगाने के लिए जनपद के समस्त विकास खण्डों में पंचायती राज विभाग द्वारा ग्राम प्रधानों एंव सेक्रेटरी के माध्यम से ग्राम पंचायतो में कराये गये कार्याे तथा उन पर व्यय का विवरण/ब्यौरा जनपद की वेबसाइट ghazipur.nic.in पर अपलोड किया गया है.

जिलें में 1 हजार के आसपास ग्राम सभाये है. जिसमे तकरीबन 200 से अधिक महिला प्रधानो व पतियो सहित तमाम पुरुष प्रधानो पर गंभीर आरोप है जिसे या तो संबंधित विभागो अदालतो मे पहुचा दिया गया है. पंचायत चुनाव भी करीब ही है।

जिससे सम्बन्धित ग्राम वासियों द्वारा वेबसाईट पर स्वयं अपने-अपने क्षेत्रो में कराये का कार्य तथा उनपर हुए खर्च का ब्यौरा देख सकते है।

वेबसाइट पर मौजूद है पंचायत राज विभाग का पूरा आंकड़ा

जिलाधिकारी ने  बताया कि पंचायती राज विभाग की सारी क्रिया कलाप तथा
प्राप्त धनराशियों तथा उसके सापेक्ष ग्राम पंचायतो में प्रधानो सचिवो द्वारा कराये गये कार्यो का ब्यौरा जनपद की वेबसाइट पर अपलोड कर दिया गया है।

चार महीने का पूरा लेखा जोखा हो चुका है सार्वजनिक

सर्वप्रथम माह सितम्बर, अक्टूबर, नवम्बर तथा दिसम्बर 2020 में ग्राम
प्रधानो /सचिव द्वारा ग्राम पंचायतवार जो भी धनराशि व्यय किया गया है को
वेबसाइट पर अपलोड कर किया गया है।

10 दिन के अदर डाटा उपलब्ध कराने के लिए तैयार रहे सभी ग्राम प्रधान

उन्होने बताया कि अगले तीन दिनों के अन्दर ही अप्रैल 2020 से पूरे वित्तीय वर्ष में जनपद के समस्त ग्राम पंचायतो में कार्याे पर जितनी भी धनराशि खर्च किये गये है उसका ब्यौरा अपलोड किया जायेगा।अगले 10 दिनो में वर्तमान ग्राम प्रधान द्वारा अपने कार्यक्राल मे जितने भी कार्य किये गये है तथा उनपर व्यय धनराशि का पूरा
व्यौरा वेबसाइट पर अपलोड करने की कार्यवाही की जायेगी।

हर गांव का समूचा आंकडा मिलेगा हर ग्रामीण को

जिलाधिकारी ने जनपदवासियों से अपील की है कि जनपद के समस्त विकास खण्डो के ग्राम पंचायतो मे वित्त आयोग, स्वच्छ भारत मिशन या अन्य निधि मे आये हुए पैसे
के सम्पूर्ण व्यय का विवरण  गाजीपुर की वेबसाइट पर उपलब्ध है जिसे वे
स्वयं देख सकते है।

पहली बार हो रहा है ऐसा देना होगा व्यय का विवरण

जिलाधिकारी ने बताया कि यह पहली बार हो रहा है इसके पूर्व केवल ग्राम पंचायतो मे प्राप्त धनराशि का ही उल्लेख होता था लेकिन व्यय धनराशि का विवरण पहली बार आ रहा है।

सभी खंड विकास अधिकारी उपलब्ध करायेगे विवरण

इससे भ्रष्टाचार तथा वित्तीय अनियमितताओं पर अंकुश लगेगा तथा गॉव के लोग भी जागरूक होगे कि उनके ग्राम मे कब कौन-कौन से कार्याे पर कितनी-कितनी धनराशि व्यय की गयी है।
उन्होने बताया कि ग्राम प्रधानो द्वारा जितने भी कार्य कराया जायेगे या किया गया है और उन एक-एक कार्याे पर कितनी- कितनी धनराशि व्यय की गयी है का प्रमाण पत्र सम्बन्धित खण्ड विकास अधिकारी द्वारा दिया जायेगा और मिलान जिला विकास अधिकार एंव जिला पंचायत राज अधिकारी द्वारा किया जायेगा। प्रमाण पत्र न देने की स्थिति में सम्बन्धित खण्ड विकास अधिकारी का वेतन बाधित किया जायेगा।

संवाद राकेश पाण्डेय