January 25, 2022

DVNA

Digital Varta News Agency

आदिवासी भाई बंधु सिखेंगे हस्तकला के गुर

आगरा (डीवीएनए)। उत्तर प्रदेश डिज़ाइन एवं अनुसंधान संस्थान ( इंस्टिट्यूट ऑफ़ डिज़ाइन एंड रीसर्च UPIDR) 20 जनवरी 2021 से “काशी में आदिवासी “कार्यक्रम के माध्यम से अनुसूचित जनजाति के कारीगरों को हस्तकला का तकनीकी प्रशिक्षण देगी। दो महीने चलने वाले इस प्रशिक्षण में उत्तर प्रदेश के देवरिया, गाजीपुर, मिर्जापुर, सोनभद्र, चंदौली और आजमगढ़ के लगभग 280 लाभार्थी होंगे। इसके साथ साथ वाराणसी के अन्य क्राफ़्ट के भी कारीगरो की सहभागिता रहेगी।
इस प्रशिक्षण कार्यक्रम में 14 डिजाइन विशेषज्ञ हिस्सा लेंगे जो कि हस्तकला तकनीकी प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित करेंगे। साथ ही इस कार्यक्रम के दौरान 7 जिलों के शिल्प को प्रदर्शित किया जाएगा।
प्रदेश के राज्यमंत्री चौधरी उदयभान जी ने कहा की शरीर पाँच तत्वों से बना है तथा हर मानव में काम, क्रोध, लोभ, मोह होता है परंतु हमारा आदिवासी समाज हर उस अवगुण से दूर रहा ऐसे आदिवासी समाज के चरणो में अपना मस्तक रख कर वंदन करता हूँ। उन्होंने यू॰पी॰आई॰डी॰आर के कामों की सराहना की।
अध्यक्ष, यूपीआईडीआर श्रीमती क्षिप्रा शुक्ला ने कहा कि हमारे आदिवासी बंधु जब तप कर निखरते है तो मिसाल बनते है। इस ट्रेनिंग प्रोग्राम के बाद, हमारे आदिवासी कारीगर भी अपने हुनर से नयी मिसाल क़ायम करेंगे। उनके बनाए हुए उत्पाद की मार्केटिंग के लिए संस्थान पूरी मदद करेगा तथा उन्हें प्रधानमंत्री माननीय मोदी जी के द्वारा दिए हुए “आत्मनिर्भर भारत“ के मूलमंत्र से जोड़ कर उनको और अधिक सशक्त करेंगे।
संवाद , दानिश उमरी