June 13, 2021

DVNA

Digital Varta News Agency

इस हॉस्पिटल की अनोखी पहल, पहले मिलेगा उपचार, बाद में होगी पैसों की बात

काशीपुर डीवीएनए। एक तरफ सरकारी अस्पताल अपनी बदहाली पर आंसू बहाने के लिए मजबूर हैं तो दूसरी ओर प्राइवेट अस्पताल कमाई का अड्डा बनते हुए दिखाई दे रहे हैं। काशीपुर में निजी अस्पतालों की भरमार है। तो ऐसे में निजी अस्पताल के संचालक ने एक अनोखी पहल का शुभारंभ किया है।

काशीपुर के स्थानीय लोगों के लिए सरकारी अस्पताल मात्र एक रेफर सेंटर बनकर रह गया है।

साथ ही अस्पताल अपनी बदहाली के लिए आंसू बहाने के लिए परेशान है ऐसे में उपचार करने के लिए लोगों को मजबूरन प्राइवेट अस्पतालों की तरफ रुकना पड़ता है तो वहीं प्राइवेट अस्पताल भी गरीबों की मजबूरी का नाजायज फायदा उठाते हुए दिखाई देते हैं। उपचार के नाम पर लाखों का बिल मरीजों के हाथ में थमा देते हैं। उसी को देखते हुए संजीवनी हॉस्पिटल के संचालक में एक अनोखी पहल शुरू की है जिसमें इमरजेंसी ट्रामा यूनिट शुभारंभ किया।

डॉक्टर भी टीम गठित कर 24 घंटे उपचार देने की कवायत शुरू कर दी है और डॉक्टरों की टीम 24 घंटे ट्रामा के मरीजों को उपचार देगी मरीज के साथ कोई भी हो या फिर किसी भी राह चलते व्यक्ति ने मरीज को अस्पताल में भर्ती क्यों ना कराया हो इंसानियत और डॉक्टरों के धर्म के नाते सर्वप्रथम उपचार डॉक्टरों का कर्म धर्म है।

तो दूसरी और संजीवनी हॉस्पिटल के संचालक मुकेश चावला का कहना है। पहले पैसा और बाद में उपचार की परंपरा को तोड़ते हुए हमारे अस्पताल ने शपथ ली है की पहले मरीज को देखा जाएगा और बाद में पैसों की बात की जाएगी। उपचार के बाद मरीज पर पैसा हो या ना हो। और इसलिए पुलिस विभाग भी कोई भी एक्सीडेंट केस में मरीज को हमारे पास छोड़ जाते हैं। क्योंकि हमारे यहां पैसों को अहमियत नहीं दी जाती।
संवाद अजहर मलिक