June 14, 2021

DVNA

Digital Varta News Agency

स्वामी विवेकानंद की जयंती पर जिलेभर में हुए आयोजन, युवाओं में दिखा जोश

कासगंज। (डीवीएनए)प्रदेश संगठन के निर्देश पर युवा दिवस कार्यक्रम आयोजित किया गया है कार्यक्रम में मुख्यअथिति माटी कला बोर्ड के अध्यक्ष एवं राज्य मंत्री श्री धर्मवीर प्रजापति रहें कार्यक्रम की अध्यक्षता माननीय जिलाध्यक्ष युवा मोर्चा भाजपा  बृजेश उपाध्याय ने की कार्यक्रम के संयोजक जिला महामंत्री युवा मोर्चा कुलदीप प्रतिहार रहे।
 जिसमें जिला कासगंज मैं युवाओं ने अपनी प्रतिभाओं से कासगंज का नाम ऊपर लाया है युवाओं को मुख्य अतिथि श्री धर्मवीर प्रजापति ने युवा उधमी सम्मान प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित हुए संजय दुबे रोहित सोलंकी विवेक पांडे मीनू धननागर विवेक महेरे पवन गुप्ता व कार्यक्रम मैं मौजूद रहे। हरिभान सिंह प्रधान आकाश गुप्ता अनिल भारद्वाज रिंकू गुप्ता व तमाम कार्यकर्ता मौजूद रहे।फोटो -मुख्य अतिथि श्री धर्मवीर प्रजापति ने युवा उधमी सम्मान प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित हुए। 
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा  द्वारा स्वामी विवेकानंद की जयंती राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाईकासगंज – अखिल भारतीय कायस्थ महासभा कासगंज द्वारा स्वामी विवेकानंद की जयंती राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में नॉवल्टी रोड स्थित राजनीतिक प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष नवल किशोर कुलश्रेष्ठ  के आवास पर मनाई गयी।
 इस मौके पर उनके चित्र पर  माल्यार्पण किया गया।जयंती में मुख्य अतिथि डॉ अजय कुलश्रेष्ठ रहे जयंती की अध्यक्षता शांतनु चौधरी ने की संचालन अखिलेश सक्सेना ने किया। शांतनु चौधरी ने कहा स्वामी विवेकानंद की जयंती राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाई जा रही है।
 स्वामी विवेकानंद हम सभी के प्रेरणा स्रोत और मार्गदर्शक है।स्वामी विवेकानन्द का जन्म12 जनवरी,1863 को हुआ।वे वेदांत के विख्यात और प्रभावशाली आध्यात्मिक गुरु थे। उनका वास्तविक नाम नरेन्द्र नाथ दत्त था। उन्होंने अमेरिका स्थित शिकागो में सन् 1893 में आयोजित विश्व धर्म महासभा में भारत की ओर से सनातन धर्म का प्रतिनिधित्व किया था ।
डॉ अजय कुलश्रेष्ठ ने कहा स्वामी विवेकानंद ने रामकृष्ण मिशन की स्थापना की थी जो आज भी अपना काम कर रही  है। वेरामकृष्ण परमहंस के सुयोग्य शिष्य थे। कवि अखिलेश सक्सेना ने कहा  स्वामी विवेकानंद का जन्म कलकत्ता के एक कुलीन बंगाली कायस्थ परिवार में हुआ था।विवेकानंद ने आध्यात्मिकता की ओर कार्य किया।वे अपने गुरु रामकृष्ण देव से काफी प्रभावित थे।
 जिनसे उन्होंने सीखा कि सारे जीवो मे स्वयं परमात्मा का ही अस्तित्व हैं। जिला अध्यक्ष केके सक्सेना ने कहा भारत में विवेकानंद को एक देशभक्त सन्यासी के रूप में माना जाता है और उनके जन्मदिन को राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस मौके पर डॉ अजय कुलश्रेष्ठ,शांतनु चौधरी, अखिलेश सक्सेना, वरिष्ठ अधिवक्ता आदर्श कुमार सक्सेना,अरविंद कुमार सक्सेना,केके सक्सेना,जिला महामंत्री प्रशांत सक्सैना, अभयप्रिय श्रीवास्तव,हिमांशु सक्सेना, विजय सक्सेना, शेखर सक्सेना,विशाल कुलश्रेष्ठ,अरविंद सक्सेना मौजूद रहे। 
कैनाल रोड स्थित अखिल भारतीय मीडिया फाउंडेशन के तत्वावधान में कार्यालय पर जिलाध्यक्ष अनिल राठौर ने  स्वामी विवेकानंद जी के चित्र पर माल्यार्पण किया ।इसके बाद पवन सक्सेना ने स्वामी विवेकानंद जी की जीवनी के बारे में बताया स्वामी विवेकानन्द जी का जन्म: 12 जनवरी,1863 -को हुआ था। 
 वेदांत के विख्यात और प्रभावशाली आध्यात्मिक गुरु थे। उनका वास्तविक नाम नरेन्द्र नाथ दत्त था। उन्होंने अमेरिका स्थित शिकागो में सन् 1893 में आयोजित विश्व धर्म महासभा में भारत की ओर से सनातन धर्म का प्रतिनिधित्व किया था। प्रतीक अग्रवाल ने उनके बारे में बिचार रखे।तुम किसी को दोष मत दो अगर तुम अपने हाथ आगे बढ़ाकर किसी की मदद कर सकते हो तो करो।
अगर नहीं कर सकते हो तो अपने हाथ बांधकर खड़े रहो. अपने वालों को शुभकामनाएं दो और उन्हें उनके रास्ते जाने दो. आप दोष देने वाले कोई नहीं होते हैं। इस अवसर पर मुकेश अग्रवाल पंकज सिंह फौजी कृतज्ञ यशोलिया संजय दीक्षित अतुल कुमार सविता जिसमे अभिषेक चौहान , हिमांशु चौहान ,
साग़र चौहान, नितिन ,अमन ,अंकित नायक, अमन राठौड़ मोहित शाक्य,पवन सक्सेना, पीयूष श्रीवास्तव,अनिल राठौड़ आदि लोगो ने भाग लिया।
स्वामी विवेकानंद जयंती एवं राष्ट्रीय युवा दिवस के उपलक्ष्य में सेवाभारती जनपद कार्यालय पर जिलाध्यक्ष डॉ पंकज वार्ष्णेय द्वारा चित्र पर माल्यार्पण किया गया।डॉ पंकज वार्ष्णेय ने कहा किभारत में, ‘राष्ट्रीय युवा दिवस’ प्रत्येक वर्ष 12 जनवरी को मनाया जाता है। 
इस दिन महान भारतीय दार्शनिक, स्वामी विवेकानंद जी का जन्म हुआ था। भारत सरकार ने 1984 में राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में 12 जनवरी की तिथि को घोषित किया और 1985 से हर साल 12 जनवरी को भारत में राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाया जाता है।उन्होंने कहा कि वास्तव में स्वामी विवेकानन्द आधुनिक मानव के आदर्श प्रतिनिधि हैं, विशेषकर भारतीय युवकों के लिए स्वामी विवेकानंद से बढ़कर दूसरा और कोई भी नेता नहीं हो सकता है। 
उन्होंने हमें कुछ ऐसी वस्तु दी है जो हममें अपनी उत्तराधिकार के रूप में प्राप्त परम्परा के प्रति एक प्रकार का अभिमान जगा देती है।नमन करने वालों में खण्ड प्रभारी सोरों पप्पू शाक्य,राहुल गुरहार,सुरेंद्र यादव,अरविंद वार्ष्णेय,नितिन श्रीवास्तव,चंद्रपाल सिंघ,मोनू श्रीवास्तव, डॉ अर्जुन सिंह आदि सेवाभारती कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

संवाद:- नूरुल इस्लाम