April 23, 2021

DVNA

Digital Varta News Agency

देश में रही परदेश में रही रऊरे कहईबों रऊरे कहई बों : मनोज सिन्हा

गाजीपुर (डीवीएनए)

अधिकतर ऐसा देखा जाता है कि पद प्रतिष्ठा मिलने के बाद लोगों की सोच और समझ बदल जाती है। वह अपने को आम ना महसूस करते हुए खास महसूस करने लगते है, लेकिन जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने लोगों की इस सोच को खारिज कर दिया।बुधवार को मनोज सिन्हा का जनपद मौजूद थे .

लंका मैदान मे आयोजित नागरिक अभिनन्दन समारोह मे अपनी बात उन्होंने इस अंदाज मे कही. कि हम इहा रही चाहे जम्बू मे हई रऊये बानी.

दिन में 12 बजे से पहले जैसे ही उनके कानों तक हवाई जहाज की आवाज पहुंची, उनकी निगाहे आसमान पर टिक गई। हवाई जहाज पर नजर पड़ते ही वह खुश हो गए और जल्द से जल्द जहाज के हवाई पट्टी पर उतरने और उसमें से श्री सिन्हा के उतरने का इंतजार करने लगे। 12.10 बजे जैसे ही अंधऊ हवाई पट्टी पर चार्टर प्लेन से एलजी श्री सिन्हा उतरे। हवाई पट्टी पर सीमित संख्या में उपस्थित लोगों की निगाहे उन पर टिक गई।

लोगों के मन में पहले से ही यह बात थी कि अब पूर्व रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल है, इसलिए अब वह खास हो गए है, सुरक्षा कर्मी हम लोगों को उनके आसपास भी फटकने नहीं देंगे, लेकिन ऐसे लोग उस समय गदगद हो गए, जब श्री सिन्हा प्लेन से उतरते ही उनके पास पहुंचे और पूछा कि का हाल-चाल बा। एलजी की इस उदारता को देख लोगों के मन में यह बात आ गई कि क्या बात है। मनोज सिन्हा इतने बड़े पद पर होते हुए भी अपने व्यवहार और सादगी को नहीं भूले। वह जमीन से जुड़े हुए व्यक्ति है और अपनों के करीब रहना चाहते है।

श्री सिन्हा के अपने पैतृक गांव मोहनपुरा रवाना होने के बाद भी लोग उनकी इस अच्छी सोच के बारे में सोचते रहे।

संवाद राकेश पाण्डेय