June 14, 2021

DVNA

Digital Varta News Agency

बच्चों का यौन शोषण मामला: सीबीआई जेई का वॉइस टेस्ट कराएगी, अदालत ने दी मंजूरी

बांदा। (डीवीएनए)बच्चों के यौन शोषण के आरोप में गिरफ्तार बर्खास्त जूनियर इंजीनियर रामभवन का वॉइस सैंपल लिया जाएगा। इसके अलावा उसका फिजियोलॉजिकल टेस्ट होगी। बुधवार को बांदा जिला अदालत ने इसकी मंजूरी देते हुए सीबीआई को उसकी 7 दिन की रिमांड सौंपी है। 
बता दें कि गिरफ्तारी व जांच के दौरान सीबीआई को कुछ इलेक्ट्रानिक गैजेट्स व वीडियो मिले हैं, जिसमें आरोपी जेई की आवाज है। सीबीआई उसके वॉइस की मिलान करना चाहती है।
दरअसल, सीबीआई ने बीते 17 दिसंबर को सुनवाई के वक्त 4 प्रार्थना पत्र कोर्ट में दाखिल किए थे। जिसमें पहले कस्टडी बढ़ाने व पूछताछ करने की मांग थी। जिस पर कोर्ट ने तत्काल स्वीकृति दे दी थी। इसके अलावा सीबीआई ने कोर्ट को बताया था कि इस मामले की जांच के दौरान आरोपी जेई रामभवन के कुछ वीडियो और ऑडियो मिले हैं। जेई के ऑडियो सैंपल लेने व दिल्ली एम्स में ले जाकर मानसिक जांच कराए जाने की आवश्यकता है। जिस पर आज कोर्ट ने मंजूरी दी है। कोर्ट ने आरोपी रामभवन को एक हफ्ते की न्यायिक हिरासत में सीबीआई को सौंपा है। जिसके तहत सीबीआई दिल्ली ले जाकर राम भवन का वॉइस सैंपल व फिजियोलॉजिकल टेस्ट व ब्लड सैंपल कराएगी। जिसके आधार पर सीबीआई को केस मजबूत होने का आसार नजर आ रहे हैं।

आरोपी इंजीनियर राम भवन को सीबीआई ने 16 नवंबर को चित्रकूट स्थित उसके घर से गिरफ्तार किया था। उनकी पूछताछ में आरोपी रामभवन ने बताया कि वह 5 से 16 साल के बच्चों को शिकार बनाता था। उन्हें जाल में फंसाने के लिए इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स का लालच देता था। आरोपी के ईमेल की जांच से पता चला है कि आरोपी अश्लील फोटो और वीडियो शेयर करने के लिए देश-विदेश के कई गिरोह के संपर्क में था। आरोपी सोशल मीडिया पर भी यह सामाग्री शेयर करता था। पीड़ित परिवारों को तस्वीरें दिखाकर ब्लैकमेल कर पैसों की मांग कर रहा था।सीबीआई ने आरोपी की पत्नी दुर्गावती को गवाहों को धमकाने व लालच देकर उन्हें प्रभावित करने का प्रयास में गिरफ्तार किया था। दुर्गावती के ऊपर पास्को की धारा 17 व 120 के तहत मामला दर्ज है। वर्तमान में वह मंडलीय जेल में है।
संवाद:- विनोद मिश्रा