July 30, 2021

DVNA

Digital Varta News Agency

आरटीपीसीआर तथा एन्टीजन का अनुपात 40 एवं 60 प्रतिशत में रखा जाए : योगी

लखनऊ (डीवीएनए)। उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने आज लोकभवन में प्रेस प्रतिनिधियों को सम्बोधित करते हुए बताया कि प्रदेश में कल एक दिन में कुल 1,78,549 सैम्पल की जांच की गयी, जो अब तक का सर्वाधिक है। आर0टी0पी0सी0आर0 से 72,808 एन्टीजन टेस्ट 1,03,433 तथा ट्रूनेट से 2308 कोविड-19 की जांचे की गयी हैं। प्रदेश में अब तक कुल 1,84,70,877 सैम्पल की जांच की गयी है। आज यह निर्णय मुख्यमंत्री द्वारा लिया गया है कि आर0टी0पी0सी0आर0 तथा एन्टीजन का अनुपात 40 एवं 60 प्रतिशत में रखा जाए। आर0टी0पी0सी0आर0 की टेस्ट की संख्या निरन्तर बढ़ाने के निर्देश दिये गये है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में पिछले 24 घंटे में कोरोना से संक्रमित 2318 नये मामले आये हैं। प्रदेश में 24,876 कोरोना के एक्टिव मामले हैं। होम आइसोलेशन में 11,718 लोग हैं। उन्होंने बताया कि अब तक कुल 3,05,068 लोग होम आइसोलेशन की सुविधा प्राप्त करते हुए 2,93,350 लोगों ने अपने होम आइसोलेशन की अवधि पूर्ण कर ली है। उन्होंने बताया कि निजी चिकित्सालयों में 2378 लोग ईलाज करा रहे हैं, इसके अतिरिक्त बाकी मरीज एल-1, एल-2 तथा एल-3 के सरकारी अस्पतालों में अपना ईलाज करा रहे हैं।
प्रसाद ने बताया कि प्रदेश में सर्विलांस टीम के माध्यम से 1,63,235 क्षेत्रों में 4,64,723 टीम दिवस के माध्यम से 2,93,55,317 घरों के 14,36,01,878 जनसंख्या का सर्वेक्षण किया गया है। प्रदेश में ई-संजीवनी के माध्यम से 24 घंटे में 1364 लोगों ने चिकित्सीय परामर्श लिया है। अब तक कुल 2,26,184 लोग चिकित्सीय परामर्श ले चुके है। उन्हांने बताया कि पिछले वर्ष 01 अक्टूबर से 24 नवम्बर, 2019 तक 35,971 मेजर सर्जरी की गयी है, इसी अवधि में इस वर्ष 01 अक्टूबर से 24 नवम्बर, 2020 तक 34,676 मेजर सर्जरी की गयी है। उन्होंने कहा कि विशेषकर बच्चे, बुजुर्ग, महिलाएं तथा बीमार व्यक्तियों को संक्रमण से दूर रखकर कोविड-19 के संक्रमण से बचा जा सकता है।
प्रसाद ने बताया कि सभी जनपदों को निर्देश दिये गये है कि मैपिंग के आधार पर जिस इलाके में ज्यादा संक्रमण के केस मिल रहे है वही पर सर्विलांस तथा फोकस टेस्टिंग की गतिविधि को तेज किया जाए और उस इलाके से अधिक से अधिक सैम्पल लेकर उनकी जांच करवाई जाए, ऐसे इलाके के सैम्पलों की आर0टी0पी0सी0आर0 के माध्यम से जांच करवाया जाए ताकि संक्रमण को जितना जल्दी हो सके, संक्रमित व्यक्ति को खोजा जा सके और उनकी श्रृंख्ला को तोड़ा जा सके। यह अभियान 15 जनपदों में 01 दिसम्बर से शुरू किया जायेगा, जिसमें लखनऊ, कानपुर नगर, प्रयागराज, वाराणसी, गौतमबुद्धनगर, गोरखपुर, गाजियाबाद, मेरठ, बरेली, मुरादाबाद, अलीगढ़, झांसी, आगरा, सहारनपुर तथा मुजफ्फरनगर में की जाएगी तथा बाकी अन्य जनपदों में यह अभियान दूसरे चरण में किया जायेगा।