July 24, 2021

DVNA

Digital Varta News Agency

इलाहाबाद हाई कोर्ट का आदेश- बालिग लड़की अपनी मर्जी से कर सकती है शादी

प्रयागराज डीवीएनए। युवती शायमा परवीन उर्फ़ सोमा की याचिका पर फैसला सुनाते हुए इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने कहा कि बालिग लड़की और लड़का अपनी मर्जी से शादी कर सकते हैं। किसी भी व्यक्ति को उसके शांतिपूर्ण जीवन में हस्तक्षेप की अनुमति नहीं दी जा सकती। कोर्ट या रिश्तेदार भी युवती के लिए अपनी राय या पसंद का विकल्प नहीं दे सकते हैं।

युवती के वकील मोहम्मद शाकिर ने डीवीएनए को बताया कि युवती शायमा परवीन ने अपनी मर्जी से शादी की है। कुछ लोग युवती को धमकी दे रहे हैं। जिस पर कोर्ट में याचिका दाखिल की गयी।

कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए स्पष्ट कहा है कि बालिग लड़का और बालिग लड़की अपनी इच्छा से शादी कर सकते हैं और साथ रह सकते हैं।

हालांकि कोर्ट ने आदेश में कहा कि यदि रिकॉर्ड में लाए गए दस्तावेज जाली या गढ़े हुए हैं तो उसे इस आदेश को वापस लेने के लिए एक रिकॉल आवेदन दायर करने के लिए खुला रहेगा।
संवाद वसीम अब्बासी