January 29, 2022

DVNA

Digital Varta News Agency

भाजपाई नेता सत्ता के नशे में चूर, उनको आम आदमी से कोई सरोकार नहीं रहा: मयंक शर्मा

काशीपुर डीवीएनए। आम आदमी पार्टी के कार्यालय पर आयोजित एक प्रेस वार्ता में प्रदेश प्रवक्ता मयंक शर्मा ने कहा कि जहां एक ओर उत्तराखण्ड के हजारों किसान पंजाब व अन्य राज्यों के किसानों के साथ दिल्ली की सीमाओं पर भयंकर ठंड व बारिश को झेलते हुए कृषि बिलों के विरोध प्रदर्शन में डटे हुए हैं, वहीं दूसरी ओर भारतीय जनता पार्टी उत्तराखण्ड के विधायक व मंत्री सत्ते के नशे में चूर अमर्यादित भाषा बोल देवभूमि को कलंकित कर रहे हैं।

पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता ने कहा कि भाजपाई नेता सत्ता के नशे में इस कदर चूर हैं कि अब उनको आम आदमी से कोई सरोकार नहीं रहा। उन्होंने कहा कि कल गदरपुर के बाँसखेड़ा में कैबिनेट मंत्री अरविन्द पांडेय को कृषि बिलों का विरोध कर रहे ग्रामवासियों ने गांव में ही नहीं घुसने दिया जिसपर अरविन्द पांडेय उन किसान समर्थकों को ही विपक्षी पार्टियों का बताने लगे।

वही तीन दिन पहले काशीपुर में किसानों के विरोध में सोशल मीडिया पर अभद्र टिप्पणी करने वाले एक चिकित्सक के समर्थन में पंहुचे स्थानीय विधायक हरभजन सिंह चीमा को भी किसानों के भारी विरोध का सामना करना पड़ा था, जो दर्शाता है कि बीजेपी के अब उत्तराखंड से दिन चले गए।

प्रेस से मुखातिब होते हुए आप के प्रदेश प्रवक्ता मयक शर्मा ने कहा कि जहां अरविन्द पांडेय, हरभजन सिंह चीमा और मुन्ना सिंह चौहान जैसे नेता हर विरोध की आवाज को अनदेखा कर रहे हैं वहीं भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष ने कल प्रदेश की नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश के विषय मे जो शर्मनाक शब्दों का प्रयोग किया है वो भारत देश और देवभूमि की संस्कृति के विपरीत है , ये बयान भाजपा की संस्कृति व महिलाओ के प्रति उनकी सोच को दर्शाता है।

वहीं उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत द्वारा इस विषय मे माफी मांगना एक नाटक मात्र है क्योंकि महिला शक्ति के लिए इतने अपमानजनक शब्दों का इस्तेमाल करने वाला व्यक्ति आज इस समय तक भी भाजपा उत्तराखण्ड के शीर्ष पद पर विराजमान हैं।
संवाद अज़हर मलिक