June 14, 2021

DVNA

Digital Varta News Agency

उर्मिला महंता ने अपने पिता गिरिधर महंता के नाटक त्रिधारा को किया प्रस्तुत

गुवाहाटी डीवीएनए। अभिनेत्री उर्मिला महंता, जो कि एक लोकप्रिय असमीय हस्ती हैं और पैडमैन जैसी फ़िल्मों में नज़र आ चुकी हैं, ने अपने पिता गिरिधर महंता के बच्चों के प्ले त्रिधारा को 33 वें गुवाहाटी पुस्तक मेले में पेश किया। यह प्रकाशन परिषद के सभागार में आयोजित 3 बच्चों के पौराणिक नाटक का संग्रह है।
उपस्थित लोगों में असमिय अभिनेता कोपिल बोरा, साहित्य अकादमी पुरस्कार विजेता बिपुल देउरी, उत्पल दत्ता, प्रफुल्ल बर्मन, राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता फिल्म समीक्षक मोनोज बोरपुजारी, प्रमोद कलिता, सचिव, असम पब्लिकेशन बोर्ड सहित कई अन्य लोग भी उपस्थित थे।
उत्साहित प्रमोद कलिता कहती हैं, “अब तक, हमारे पास जो दो सबसे ज्यादा बिकने वाली किताबें हैं जिनमें से बिपुलज्योति साकीया द्वारा हिरेन भट्टाचार्जी की रचनाबली हमारे प्रकाशन से है। दूसरे दिन, हमने Rs.62,000 की किताबें बेचीं। हम 33 वें गुवाहाटी पुस्तक मेले को एक शानदार सफलता बनाने के लिए सभी प्रतिभागियों के आभारी हैं। हमने पहली शाम को काफी चहल पहल देखी है। ”
“यह मेरे पिता का पहला प्रयास है इसलिए हमारा पूरा परिवार उन्हें प्रोत्साहित करने के लिए आगे आ रहा है। मैं इस कार्यक्रम में शामिल होने के लिए सभी प्रतिष्ठित आमंत्रितों की आभारी हूं। आगे बताते हुए उर्मिला महंता ने कहा कि मैं गुवाहाटी पुस्तक मेले जैसे शानदार मंच को हमे देने के लिए श्री प्रमोद कलिता और असम प्रकाशन बोर्ड को धन्यवाद देना चाहती हूं और इसे एक शानदार सफलता की कामना करती हूं।
मेले में प्रकाशक जुतीका महंता और पूरे परिवार और शुभचिंतकों की भारी भीड़ देखी गई। जहाकि युवा वर्ग को लेखक चेतन भगत, अमीश त्रिपाठी, रविंदर सिंह आदि द्वारा लिखी गई पुस्तकों की तलाश थी, वहीं पुरानी पीढ़ी ने हेमेन बोर्गोहिन, रीता चौधरी, अनुराधा शर्मा पुजारी और कई अन्य लोगों की पुस्तकों को पुस्तक मेले में पसंद किया।
असम पब्लिकेशन बोर्ड का दावा है कि पिछले वर्षों की तुलना में बिक्री अधिक रही है। वे यह भी मानते हैं कि आज के दिन और स्मार्ट उपकरणों के युग में, लोग अभी भी किताबें खरीदने और पढ़ने में रुचि रखते हैं।