उत्तर प्रदेश ओएनडीसी से जुड़ने वाला देश का पहला राज्य होगा

 
pic

लखनऊ: 
     उत्तर प्रदेश के पारंपरिक कारीगरों को वैश्विक बाजार उपलब्ध कराये जाने की दिशा में सरकार तेजी से कदम आगे बढ़ा रही है। केन्द्रीय वाणिज्य मंत्रालय के ओपन नेटवर्क फार डिजिटल कामर्स (ओएनडीसी) प्लेटफार्म पर ‘ओडीओपी मार्ट डाट काम’ को जोड़ने की तैयारी है। इसके बाद पोर्टल पर पंजीकृत सभी कारीगरों के उत्पाद उन सभी ई-कामर्स साइट और एप पर प्रदर्शित होंगे, जो ओएनडीसी से जुड़े होंगे। इस सुविधा से बिचौलियों की भूमिका खत्म होगी और कारीगर अपने उत्पाद सीधे खरीदार को ऑनलाइन बेच सकेंगे।


     यह जानकारी अपर मुख्य सचिव, सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम डा0 नवनीत सहगल ने आज यहां दी। उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश ओएनडीसी से जुड़ने वाला देश का पहला राज्य होगा। इससे प्रदेश के सभी जिलों के कारीगरों के लिए असीमित ऑनलाइन बाजार के द्वार खुल जायेंगे। कारीगर ओएनडीसी और ओडीओपी मार्ट के माध्यम से अपने उत्पाद अपनी तय कीमत पर खुद ऑनलाइन बेच सकेंगे। इसकी सभी तैयारियॉं पूर्ण हो चुकी हैं। आगामी 27 जून को लखनऊ जनपद से इसकी शुरूआत की जायेगी। उन्होंने बताया कि विगत वर्षों में उत्तर प्रदेश के प्रत्येक जिले से निर्यात का आकड़ा बढ़ा है। राज्य की एमएसएमई का निर्यात 88 हजार करोड़ से बढ़कर डेढ़ लाख करोड़ से अधिक हो गया है। अब इसे दोगुना करने की तैयारी है। इस दिशा में यह एक महत्वपूर्ण कदम होगा।


     डा0 सहगल ने बताया कि सरकार ई-कामर्स प्लेटफार्म पर दिग्गज कंपनियों के साथ छोटे कारीगरों को भी एक समान व्यापार का अवसर प्रदान करना चाहती है। इसीलिए ओएनडीसी नेटवर्क तैयार किया गया है। इस नेटवर्क से जुड़ने के बाद देश-विदेश का कोई भी खदीददार ई-कामर्स प्लेटफार्म पर जाकर कोई उत्पाद तलाशेगा तो उसे नेटवर्क से जुड़े पोर्टल पर उपलब्ध उत्पाद दिखाई देंगे। उदाहरण के तौर पर यदि  कोई व्यक्ति ताबें/पीतल की वस्तुएं सर्च करता है, तो उसे अन्य कंपनियों के साथ-साथ ओडीओपी उत्पाद भी दिखेंगे। इसके अतिरिक्त ओएनडीसी पर लाजिस्टिक सुविधा भी उपलब्ध होगी। ग्राहक अपने मन पसंद लाजिस्टिक कंपनी से उत्पाद की डिलीवरी ले सकेंगे। प्रतिस्पर्धा होने से ग्राहकों को कम कीमत पर लाजिस्टिक की सुविधा भी प्राप्त होगी।

From Around the web