सरकार तुंहर द्वार कार्यक्रम से जिलेवासी राशन, पेंशन, ड्राइविंग लाइसेंस, किसान किताब की सुविधा से हो रहे लाभान्वित: विधायक पुरूषोत्तम कंवर

 
pic

कोरबा :  सरकार तुंहर द्वार कार्यक्रम के अंतर्गत विकासखण्ड कटघोरा के ग्राम पंचायत नवागांव कला में वृहद समाधान शिविर का आयोजन किया गया। इस शिविर में एक ही दिन में छह हजार 743 लोगों को फौती, नामांतरण, राशन कार्ड, पेंशन, दिव्यांगता प्रमाण पत्र, किसान क्रेडिट कार्ड आदि शिविर स्थल में ही बनाकर ग्रामीणों को दी गई। शिविर में कटघोरा विधानसभा क्षेत्र के विधायक  पुरूषोत्तम कंवर एवं कलेक्टर  रानू साहू शामिल हुई। इस दौरान विधायक  कंवर ने कहा कि सरकार तुंहर द्वार कार्यक्रम से हजारों लोग लाभान्वित हो रहे है। जिला प्रशासन के अधिकारी कर्मचारियों द्वारा आमजनों के सभी समस्याओं का निराकरण किया जा रहा है। उन्होने कहा कि शिविर स्थल में ही ड्राइविंग लाइसेंस, दिव्यांगता प्रमाण पत्र, राशन कार्ड, किसान क्रेडिट कार्ड, किसान किताब आदि बनाकर दिया जा रहा है। साथ ही शासन की जनकल्याणकारी योजनाओं की जानकारी भी दी जा रही है। उन्होने नागरिकों से शिविर मंे अधिक से अधिक संख्या में आकर सरकार तुंहर द्वार कार्यक्रम का लाभ उठाने की अपील भी की। विधायक  कंवर ने शिविर में शामिल जनप्रतिनिधियों के साथ विभिन्न विभागों के स्टालों का अवलोकन किया। उन्होने दिव्यांगजनों को दिव्यांगता प्रमाण पत्र, महिला समूहों को ऋण का चेक, किसानों को कृषि उपकरण, मछली जाल, किसान क्रेडिट कार्ड, ई-श्रमिक कार्ड आदि प्रदान किये। इस दौरान कलेक्टर रानू साहू ने कहा कि सरकार तुहंर द्वार कार्यक्रम के तहत् जिला प्रशासन लोगो के घर-घर तक पहुंचकर सर्वे कर नागरिको के विभिन्न समस्याओं का समाधान कर रहा है। उन्होने कहा कि नागरिकों को पहले छोटी-छोटी सुविधाओं के लिए भी दूर-दूर तक जाकर कार्यालयों के चक्कर काटने पडते थे। अब शिविर के माध्यम से एक ही जगह पर सभी शासकीय सेवाओं का लाभ मिल रहा है। उन्होने कहा कि राशन कार्ड, जाति प्रमाण पत्र, दिव्यांगता प्रमाण पत्र आदि के लिए बार-बार कार्यालय जाना नही पडता। इन सभी दस्तावेजों को शिविर स्थल मे ही बनाकर दिया जा रहा है। शिविर के माध्यम से किसानों को सहकारी समिति से जोडकर उन्हे खाद-बीज की सुविधा देने के लिए किसान क्रेडिट कार्ड बनाकर भी दिया जा रहा है। शिविर स्थल मे ड्राइविंग लाइसेंस भी बना कर दिया जा रहा है। जिससे जिला कार्यालय जाने से मुक्ति मिल गयी है। शिविर में मेडिकल बोर्ड द्वारा दिव्यांगजनो को दिव्यांगता प्रमाण पत्र भी बना कर दिया जा रहा है। इससे दिव्यांगजन शासकीय योजनाओं और सेवाओं का लाभ आसानी से ले पायेगे। कलेक्टर  साहू ने कहा कि नागरिकों को लाभान्वित करने पूरी जिला प्रशासन की टीम लगी हुई है। इस दौरान जिला पंचायत अध्यक्ष  शिवकला कंवर, गौसेवा आयोग के सदस्य प्रशांत मिश्रा, जनपद पंचायत कटघोरा अध्यक्ष  लता कंवर, जिला पंचायत सीईओ  नूतन कंवर, एस.डी.एम. कटघोरा  कौशल प्रसाद तेंदुलकर सहित आस-पास पंचायतों के सरपंच गण, समस्त विभागीय अधिकारीगण तथा भारी संख्या में नागरिकगण मौजूद रहे।

सरकार तुहंर द्वार कार्यक्रम में 15 पंचायतों के छह हजार 700 से अधिक लोग हुए लाभान्वित-  नवागांव कला में आयोजित सरकार तुहंर द्वार कार्यक्रम के माध्यम से ग्रामीणों के राशन, पेंशन, मजदूर कार्ड आदि से संबंधित लंबित प्रकरणों का तत्काल निराकरण किया गया। शिविर के पहले नागरिकोे से उनकी समस्याओं से संबंधित घर-घर सर्वे करके आवेदन लिए गए थे। आवेदनों के निराकरण पश्चात सेवाओं के दस्तावेजों को शिविर स्थल में ही ग्रामीणों को दिए गए। समाधान शिविर में कोरकोमा क्लस्टर के अंतर्गत 15 ग्राम पंचायतों के छह हजार 743 नागरिकगण सेवाओं का लाभ लिए। शिविर में विभागों द्वारा विभिन्न प्रकार की सेवाएं उपलब्ध कराई गई। शिविर स्थल में राजस्व विभाग के अंतर्गत मुआवजा प्रकरण, अभिलेख दुरूस्ती, वनाधिकार पट्टे का वितरण, फौती नामांतरण, किसान किताब, सीमांकन एवं डिजिटल हस्ताक्षरित बी-1 वितरण आदि के 2107 प्रकरणों का निराकरण किया गया। जिला पंचायत मनरेगा के अंतर्गत 21 हितग्राहियों का जॉब कार्ड बनाकर दिया गया। गोधन न्याय योजना अंतर्गत गोबर खरीदी से 110 हितग्राहियों को राशि का भुगतान, खाद उत्पादन से 3 स्व. सहायता समूहो को राशि का भुगतान किया गया। एन.आर.एल.एम. अंतर्गत बैंक ऋण वितरण, टी सर्ट एवं टोपी एवं बैग वितरण, टेबलेट वितरण के माध्यम से कुल 34 हितग्राही लाभान्वित हुए। इसी प्रकार स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत 51 हितग्राहियों को शौचालय निर्माण प्रोत्साहन राशि दी गई है। इस प्रकार जिला पंचायत अंतर्गत 219 हितग्राही लाभान्वित हुए। समाज कल्याण विभाग द्वारा 29 हितग्राहियों को दिव्यांग उपकरण, 179 लोगो को सामाजिक सहायता पेंशन, 53 हितग्राहियों को दिव्यांग पेंशन एवं 8 हितग्राहियों को राष्ट्रीय परिवार सहायता योजना अंतर्गत लाभान्वित किया गया। खाद्य विभाग अंतर्गत एक हजार 650 हितग्राहियों के नवीन राशन कार्ड, राशन कार्ड में संशोधन, नामिनी सुविधा एवं दिव्यांग, बुजुर्गाे का राशन कार्ड निर्माण किया गया। स्वास्थ्य विभाग द्वारा 30 लोगो का दिव्यांगता प्रमाण पत्र बनाया गया, 2 गंभीर बीमारी से पीडित मरीज का चिन्हाकन, साथ ही आयुष्मान कार्ड, निःशुल्क स्वास्थ्य जांच एवं औषधि वितरण, चश्मा वितरण, हेल्थ आई कार्ड, जेएसवाई भुगतान, स्किलसेल जांच एवं उपचार, एएनसी चेकअप, लेपरोसी केश, टीबी केश, सीवियर एनिमिक, दिव्यांग राशन कार्ड के तहत कुल एक हजार 637 हितग्राहियों को लाभान्वित किया गया। श्रम विभाग के अंतर्गत 346 हितग्राही पंजीयन किया गया। कृषि विभाग द्वारा 67 किसानों को विद्युत पंप, पेट्रोल पंप, पावर स्पेयर, धान बीज, मक्का मिनी किट, उडद मिनी किट, बुश कटर का वितरण किया गया। शिक्षा विभाग द्वारा 45 जाति प्रमाण पत्र, 14 बच्चों को आवश्यक उपकरण वितरण किया गया। पशुधन विभाग द्वारा 6 हितग्राहियों को मिनरल मिक्चर वितरण किया गया। मछली पालन विभाग द्वारा 50 हितग्राहियों को महाजाल, आईसबाक्स का वितरण किया गया। इसी प्रकार लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग द्वारा 41, सहकारिता विभाग द्वारा 116, कौशल विभाग द्वारा 1, महिला बाल विकास विभाग द्वारा 145, क्रेडा विभाग द्वारा 9 एवं उद्यान विभाग द्वारा 5 हितग्राहियों को लाभान्वित किया गया। बिजली विभाग द्वारा 14 लोगों को लाभान्वित किया गया।

सरकार तुंहर द्वार शिविर में दिलेश्वरी का बना नया बीपीएल राशन कार्ड
अब खर्च में होगी बचत, शासकीय योजनाओं का भी मिलेगा अधिक लाभ

सरकार तुंहर द्वार कार्यक्रम अंतर्गत विकासखण्ड कटघोरा के ग्राम नवागांव कला में आयोजित वृहद समाधान शिविर में  दिलेश्वरी निषाद का नया बीपीएल राशन कार्ड बन गया। नया राशन कार्ड बनने से दिलेश्वरी को रियायत दर पर राशन सामग्री शासकीय उचित मूल्य की दुकान से मिलेगी। नया बीपीएल कार्ड बनने के पश्चात अब खर्च में भी बचत होगी। साथ ही शासकीय योजनाओं का भी अधिक लाभ मिलेगा। ग्राम सलोरा क की रहने वाली दिलेश्वरी के राशन कार्ड मंी पति सहित उनके दो बच्चो के भी नाम शामिल है। इससे दिलेश्वरी को 35 किलोग्राम चावल महीने में प्राप्त होगा। दिलेश्वरी ने बताया कि पहले एपीएल राशन कार्ड बना था। उसमें 10 रूपये प्रति किलोग्राम के हिसाब से महीने में 350 रूपये चांवल खरीदने में खर्च हो जाते थे। गरीब परिवार से होने के कारण खर्च वहन करने में परेशानी होती थी। अब प्राथमिकता श्रेणी के बीपीएल राशन कार्ड बन जाने से एक रूपये प्रति किलोग्राम की दर से चांवल शासकीय राशन दुकान से प्राप्त होगी। उन्होने बताया कि अब महीने में चांवल में होने वाले खर्च बच जाएगें। जिससे घर के अन्य जरूरतमंद की चीजें लेने में आसानी होगी। बीपीएल राशन कार्डधारी होने से दिलेश्वरी को अन्य शासकीय योजनाओं का भी अधिक लाभ मिलेगा। शिक्षा के अधिकार के तहत निजी स्कूलों में बच्चों के दाखिले में आसानी होगी। साथ ही डॉ. खूबचंद बघेल स्वास्थ्य सहायता योजना के तहत बीपीएल राशन कार्डधारी को पांच लाख रूपये तक का निःशुल्क इलाज कराने का भी प्रावधान है। दिलेश्वरी और उनके परिवार को इस योजना का भी लाभ आसानी से प्राप्त होगा।

From Around the web