शासन की पहली प्राथमिकता अंतिम व्यक्ति तक पहुंचकर जनकल्याणकारी योजनाओं का लाभ दिलाना : वन मंत्री मोहम्मद अकबर

 
pic

कवर्धा : प्रदेश के वन, परिवहन, आवास, पर्यावरण, विधि विधायी तथा जलवायु परिवर्तन मंत्री व कवर्धा विधायक  मोहम्मद अकबर लोगों की समस्याएं, शिकायत, मांगों को सुनने और उसका निराकरण करने स्वयं सुदूर वनांचल क्षेत्र के गांव-गांव तक पहुंच रहे हैं। गांव के जिला स्तरीय जनसमस्या निवारण शिविर में पहुंच कर वहां के लोगों के बीच में सीधा संवाद कर लोगों के मांग, शिकायत और समस्याओं से रूबरू हो रहे है। इसी तारतम्य में वन मंत्री अकबर आज बोड़ला विकासखंड के सुदूर वनांचल क्षेत्र के ग्राम चिल्फी पहुंचे। जहां जिला स्तरीय जनसमस्या निवारण शिविर में वहां के निवासियों से प्राप्त आवेदनों, समस्याएं, शिकायत और मांगों पर चर्चा कर अधिकारियों को निराकरण करने के निर्देश दिए। शिविर में कुल 130 आवेदन प्राप्त हुए।

 अकबर ने सभी आवेदकों से वन-टू-वन चर्चा कर उनके समस्याओं, मांग और शिकायतों से संबंधित विभागीय अधिकारियों से निराकरण की स्थिति से स्वयं अवगत भी हुए और आवेदकों को शिविर स्थल पर ही अधिकारी द्वारा उनके आवेदन पर हुए कार्यवाही को अवगत भी कराया। इस दौरान मंत्री अकबर ने आरबीसी 6-4 के तरह तीन हितग्राहियो को चार-चार लाख रुपए का चेक प्रदान किया। जय मां शारदा स्व सहायता समूह के महिलाओं को जाल, आइसबॉक्स और तराजू बाट तथा 203 हितग्राहियों को राशन कार्ड एवं चश्मा का वितरण किया। साथ ही इस वर्ष स्कूल में प्रवेश करने वाले बच्चों को तिलक लगाकर पाठ्यपुस्तक का वितरण किया। शिविर में हितग्राहियों को स्प्रेयर तथा आयुष्मान कार्ड का भी वितरण किया गया।        


वन मंत्री अकबर ने विभागीय अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि जिन आवेदनों पर निराकरण शिविर स्थल पर नहीं हो सका, ऐसे आवेदनों को विभाग निराकरण के लिए समय निकालें, आवेदनों का परीक्षण करायें और उन पर कार्यवाही करते हुए ठोस तथा गुणवत्तापूर्ण निराकरण करें।  शिविर में सभी विभागों के प्रमुखों ने प्राप्त आवेदन की जानकारी दी। उन्होंने सभी आवेदनों को पढ़कर सुनाया और कहा की प्राप्त आवेदनों का निराकरण निश्चित समय सीमा में पूरा किया जाएगा। इस दौरान उन्होंने शिविर में राशन कार्ड का वितरण किया। इसके साथ ही ड्राइविंग लाइसेंस बनाने के लिए परिवहन विभाग द्वारा शिविर का आयोजन किया गया। जिसमे 220 आवेदन प्राप्त हुए।  


मंत्री अकबर ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की पहली प्राथमिकता वनांचल क्षेत्र के अंतिम व्यक्ति तक पहुंचकर उनका हलचाल जानना और उन व्यक्तियों को शासन की जनकल्याणकारी योजनाओं का लाभ दिलाना है। इसके साथ ही वहां की समस्या, शिकायतों और मांगों सुनकर उनका त्वरित निराकरण करना है। जिला स्तरीय जनसमस्या निवारण शिविर को ग्रामीण क्षेत्रों में लगाने का मुख्य उद्देश्य वनांचल क्षेत्रों में राशन कार्ड, बिजली, पेयजल जैसे समस्या शासन प्रशासन तक पहुंच सके और उसका त्वरित निराकरण किया जा सके। इस निवारण शिविर का लाभ अधिक से अधिक लोगों को लेना चाहिए। मंत्री  अकबर ने ग्रामीणों द्वारा प्राप्त आवेदन पर आवेदनकर्ता से चर्चा कर विभाग को निराकरण करने के निर्देश दिए।    


मंत्री  अकबर ने प्रत्येक आवेदन पर की गई कार्रवाई से हितग्राहियों को अवगत कराया। एसडीएम बोडला ने जानकारी देते हुए बताया कि राजस्व विभाग को 34 आवेदन प्राप्त हुए है। आवेदक  केवल स्वामी ने आवेदन किया है कि जमीन के नक्शा खसरा में भूमि स्वामी है लेकिन ऑनलाइन में गड़बड़ी दिखा रहा है जिसे जांच के बाद सुधार किया जाएगा। वही असीमदास द्वारा आवेदन करने पर मृत्यु प्रमाण पत्र तत्काल बना कर दिया गया।  बालक दास को परिचय पत्र तथा आय प्रमाण पत्र बनाने के लिए प्राप्त आवेदन पर सभी का आय प्रमाण पत्र बना कर दिया गया। स्वास्थ्य विभाग के अंतर्गत आवेदकों द्वारा चिल्फी में स्टॉफ नर्स की मांग की गई। मंत्री  अकबर स्टॉफ नर्स पदस्थ करने के निर्देश दिए। हितग्राहियों द्वारा ग्राम चिल्फी में फड़ केंद्र खोलने की मांग की गई। डीएफओ ने बताया कि यहां केंद्र नही खोला जा सकता इसके समीप गांव में इसकी व्यवस्था की जा सकती है।


मंत्री  अकबर ने ग्रामवासियों की सहमति से ग्राम सरोदा में फड़ केंद्र प्रारंभ करने के निर्देश दिए। बिजली विभाग के अधिकारी ने बताया कि बरहापानी में सौर ऊर्जा संचालित है जहां बिजली की मांग की जा रही है। उन्होंने बताया कि इसके लिए प्रस्ताव बनाकर उच्च कार्यालय को भेजा गया है। मंत्री अकबर ने कहा कि इसमें कोई भी प्रकार से समस्या आती है तो अवगत कराए इसे दूर किया जाएगा। ग्रामीणों की बिजली की समस्या दूर होने चाहिए। वही ग्राम चिल्फी में बिजली बिल अधिक आने की शिकायत पर जांच करने के निर्देश दिए। लोक निर्माण विभाग के अधिकारी ने बताया कि इस क्षेत्र के सड़क समस्या ग्रस्त थी जिसे मंत्री  अकबर के प्रयासों से इसके निर्माण के लिए स्वीकृति मिली है। इसके लिए 12 करोड़ का प्रस्ताव बनाकर भेज दिया गया है। पीएचई विभाग के अधिकारी ने जानकारी दी की जल जीवन मिशन और हर घर नल योजना के अंतर्गत ग्राम चिल्फी में 2 कारोड़ 75 लाख रुपए की राशि स्वीकृत की गई है जिसके माध्यम से टंकी और पाइप लाइन से हर घर में नल के माध्यम से पानी पहुंचाया जाएगा। मंत्री  अकबर में 6 महीने में कार्य पूरा करने के निर्देश दिए।


 

From Around the web