गहन डायरिया नियंत्रण पखवाड़ा कार्यक्रम का शुभारंभ

 
pic

राजनांदगांव : कलेक्टर  तारन प्रकाश सिन्हा ने 21 जून को कृषि उपज मंडी राजनांदगांव में बच्चों को ओआरएस पिलाकर गहन डायरिया नियंत्रण पखवाड़ा कार्यक्रम का शुभारंभ किया। जिले में  21 जून से 5 जुलाई तक गहन डायरिया नियंत्रण पखवाड़ा मनाया जा रहा है। जिसके अंतर्गत 0 से 5 वर्ष के 1 लाख 63 हजार 142 बच्चों का लक्ष्य है। कार्यक्रम के अंतर्गत जिले के समस्त स्वास्थ्य केन्द्रों में ओआरएस कॉर्नर की स्थापना की जाएगी एवं मितानिन द्वारा घर-घर भ्रमण कर 0 से 5 वर्ष के बच्चों वाले घरों में ओआरएस पैकेट का वितरण, ओआरएस घोल बनाने की विधि प्रदर्शन तथा हाथ धोने की विधि बताया जाएगा साथ ही शिशुवती माताओं को बच्चों में दस्त के दौरान मां का दूध एवं ऊपरी आहार देने की सलाह भी दी जाएगी।


मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मिथिलेश चौधरी ने बताया की 0 से 5 वर्ष के बच्चों में डायरिया प्रबंधन में ओआरएस एवं जिंक की महत्ता विशेष है। डायरिया नियंत्रण पखवाड़ा अंतर्गत समस्त खंड चिकित्सा अधिकारियों को यह निर्देश दिया गया है कि सभी स्वास्थ्य केन्द्रों की पानी टंकियों की साफ-सफाई अनिवार्य रूप से की जाये एवं ओआरएस-जिंक की उपयोगिता पर दीवार लेखन एवं नारे लेखन की जाए। साथ ही  मितानिनों के द्वारा डायरिया प्रकरणों के पहचान पर एएनएम द्वारा डायरिया केस प्रंबधन, उपचार तथा काउसलिंग पर विशेष गतिविधियां की जाएंं। काउसलिंग सत्रों में ओआरएस-जिंक की महत्ता, दस्त होने पर भी मां की दूध की आश्यकता, हाथ धोने की विधि तथा शौच हेतु टॉयलेट के उपयोग की जानकारी भी दी जाएं। पोषण पुर्नवास केन्द्रों में भर्ती कुपोषित बच्चों जिन्हें डायरिया हो उनका प्रबंधन भी किया जाए। ग्रामीण स्तर पर स्कूलों, आउट रीच सत्रों, व्हीएचएनएसडी और आंगनबाड़ी केन्द्रों में भोजन के पहले एवं शौच के बाद साबुन से हाथ धोने हेतु प्रोत्साहित किया जाएं। पखवाड़े की सभी गतिविधियां कोविड नियमों का पालन करते हुए किए जाने के निर्देश दिए गये हैं। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी द्वारा महिला बाल विकास विभाग एवं आईएमए द्वारा समन्वय स्थापित कर कार्यक्रम को सफल बनाने हेतु आव्हान किया गया है।


कार्यक्रम में मुख्य कार्यपालन अधिकारी  लोकेश चन्द्राकर, अतिरिक्त जिला दण्डाधिकारी सीएल मारकण्डेय, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मिथिलेश चौधरी, जिला सर्विलेंस अधिकारी डॉ. बीएल तुलावी एवं समस्त स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी उपस्थित थे।  

From Around the web