इंश्योेरेंस क्लेम के लिए हॉस्पिटल नहीं दे रहा जांच रिपोर्ट

 
pic

दुर्ग :  हरि नगर कातुलबोड़ की रहने वाली आवेदिका जिसके पति का स्वर्गवास कोविड -19 से हो गया है इंश्योरेंस क्लेम के लिए हॉस्पिटल से जांच रिपोर्ट न मिलने पर आज जनदर्शन में कलेक्टर के समक्ष् आवेदन लेकर पहुंची थी। आवेदिका का कथन है कि 2021 में उसके पति की मृत्यु सीसीएम हॉस्पिटल कचांदुर में कोविड-19 के ईलाज के दौरान हुई। मृत्यु के पश्चात् इंश्योरेंस की राशि प्राप्त करने के लिए इंश्योंरेस कंपनी द्वारा उसे हॉस्पिटल द्वारा की गई जांच की डिटेल रिपोर्ट मांगी जा रही है। परंतु  सीसीएम मेडिकल हॉस्पिटल कचांदुर उसे जाचं की डिटेल रिपोर्ट नहीं दे रहा है आवेदिका ने बताया कि परिवार द्वारा कराए गए बीमा व सामूहिक बीमा राशि और पीएफ क्लेम के लिए उसे इस रिपोर्ट की आवश्यकता है। इसके लिए आवेदिका द्वारा सीसीएम में आवेदन भी प्रस्तुत किया गया और स्टाफ से कई बार संपर्क भी किया गया है। परंतु आज तक उसे डिटेल रिपोर्ट प्राप्त नहीं हुई है। आवेदिका का कथन है कि सीसीएम के द्वारा उसे मौखिक जवाब दिया गया है जिसमें उन्होंने बताया है कि इंश्योरेंस क्लेम के लिए डिटेल रिपोर्ट की आवश्यकता नहीं पड़ती है और न ही हमारे द्वारा लिखित में डिटेल रिपोर्ट दी जाती है। इंश्योरेंस क्लेम के बिना आवेदिका को वित्तीय संकट की स्थिति से गुजरना पड़ रहा है, इसलिए आवेदिका ने कलेक्टर से निवेदन किया है कि उसे सीसीएम हॉस्पिटल से जांच डिटेल रिपोर्ट दिलाई जाए क्योंकि इसके बिना उसे इंश्योरेंस क्लेम नहीं मिल पा रहा है। कलेक्टर ने वस्तु स्थिति पर संज्ञान लेते हुए संबंधित अधिकारी को त्वरित कार्यवाही का निर्देश दिया।


पोटिया कला के वार्ड वासियों द्वारा वहां के वार्ड क्रमांक 54 के प्राचीन तालाब परिसर में हो रहे अनैतिक कार्यों के लिए जनदर्शन में आवेदन लगाया गया है। इसमें आवेदक का कथन है कि पोटिया कला में स्थित यह प्राचीन तालाब पूर्वजों ने श्रमदान कर बनाया है और इसकी पवित्रता और प्रतिष्ठा को बनाए रखने के लिए विभिन्न संगठनों द्वारा संकल्प भी समय-समय पर लिया जाता है। परंतु कुछ आसमाजिक तत्वों द्वारा इस तालाब को और इसके आस-पास के परिवेश को दूषित करने का प्रयास किया जा रहा है। उपद्रवी तत्वों द्वारा सुबह से लेकर रात तक तालाब की पचरी में सामूहिक रूप से नाशापान किया जाता है और इस स्थल को जुए का अड्डा बना लिया गया है। पुलिस प्रशासन की उदासीनता के चलते उनमें किसी प्रकार का खौफ या भय नहीं है। इसलिए आवेदक का कलेक्टर से निवेदन है कि समय-समय पर तालाब परिक्षेत्र में यदि पुलिस द्वारा औचक निरीक्षण या पेट्रोलिंग कराई जाए तो भविष्य में किसी प्रकार की अप्रिय घटना से बचाव और इस दिशा में सकरात्मक बदलाव लाया जा सकता है। कलेक्टर ने आवेदन की गंभीरता को देखते हुए संबंधित अधिकारी से इसके संबंध में जानकारी मंगवाई है और वस्तु स्थिति अनुरूप कार्यवाही करने का आश्वासन दिया है।


जनदर्शन में एक वृद्ध महिला भी अपना आवेदन लेकर पहुंची थी जो कि आधार कार्ड न बन पाने की स्थिति में शासकीय योजनाओं का लाभ नहीं ले पा रही है। उसने बताया कि विगत कई वर्षों से वो आधार कार्ड बनवाने के लिए प्रयासरत है। इसके पूर्व भी उसने अपनी इस आप बीती को लेकर कार्यालय में आवेदन दिया था। परंतु वर्तमान तक उसकी समस्या का निराकरण नहीं हुआ है। उसने कलेक्टर से निवेदन किया कि उसके आवेदन पर विचार कर शीध्र उसका आधार कार्ड बनाया जाए ताकि वो इस वृद्ध अवस्था में शासकीय योजनाओं में आवेदन कर इनका लाभ ले सके और अपना जीवन निर्वाह कर सके। कलेक्टर ने आवेदन, संबंधित अधिकारी को प्रेषित किया और तुरंत निराकरण के निर्देश दिए।
जनदर्शन में कुल 62 आवेदन प्राप्त हुए।

From Around the web