आयुक्त ने किया दल्ली राजहरा-रावघाट रेल एवं रावघाट इस्पात परियोजना के कार्यो की समीक्षा

 
pic

नारायणपुर :  दल्ली राजहरा-रावघाट रेल एवं रावघाट इस्पात परियोजना के कार्यों की बस्तर आयुक्त  श्यामलाल धावड़े ने आज जिला कार्यालय के सभाकक्ष में कलेक्टर, एसपी, डीएफओ, एवं रेल्वे, बीएसपी के अधिकारियों की बैठक लेकर समीक्षा किया। बैठक में कमिश्नर  धावड़े ने कहा कि दल्ली राजहरा-रावघाट रेल एवं रावघाट इस्पात परियोजना शासन की सर्वेच्च प्राथमिकता वाली परियोजना है। उन्होंने संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया कि जनहित कार्यों को महत्व देते हुए कार्य करें। उन्होंने कहा कि रावघाट परियोजना से प्रभावित गांवों में शिक्षा, स्वास्थ्य, सड़क, बिजली, पानी, रोजगार संबंधी मांगों एवं समस्याओं को गंभीरता से ले और उस पर उचित कार्यवाही करंे। उन्होंने कहा कि अभी तक सभी कार्य सुचारू रूप से चल रहे हैं। इसे और अधिक बेहतर ढंग से संचालित करने हेतु अधिकारी समन्वय से कार्य कर अपनी दायित्वांे का जिम्मेदारी से निर्वहन करें। प्रबंधन प्रभावित क्षेत्रों में सीएसआर एक्टीविटी अधिक से अधिक करें। बैठक में पुलिस महानिरीक्षक  पी.सुंदरराज, डीआईजी बालाजी राव, मुख्य वनसंरक्षक कांकेर रेंज  राजू अगसिमनी उप महानिरीक्षक बीएसएफ, उप महानिरीक्षक एसएसबी, कांकेर कलेक्टर  चंदन कुमार, नारायणपुर कलेक्टर ऋतुराज रघुवंशी, एसपी नारायणपुर  सदानंद कुमार, एसपी कांकेर शलभ सिन्हा, सीईओ जिला पंचायत देवेश कुमार ध्रुव, डीएफओ नारायणपुर  थेजस शेखर, डीएफओ भानुप्रतापपुर, रेल विकास निगम लिमिटेड, बीएसपी के अधिकारियों के अलावा अन्य विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।


बैठक में पुलिस महानिरीक्षक पी. संुंदरराज ने कहा कि कार्य के दौरान आने वाली अधिकतर समस्याओं का समाधान कर लिया गया है। साथ ही प्रभावित क्षेत्र के ग्रामीणों की मांग एवं समस्याओं को अधिकारी गंभीरता से लें और उनका निराकरण तत्काल करें। उन्होंने कहा कि संवेदनशील क्षेत्र होने के कारण यहां कार्य करने में चुनौती ज्यादा है। इसलिए कार्य आरंभ करने के पूर्व संबंधित क्षेत्र के सुरक्षा बल को इसकी सूचना अनिवार्य रूप से दें, ताकि सुरक्षा बलों द्वारा सुरक्षा प्रदान की जा सके।  कलेक्टर कांकेर चंदन कुमार ने कहा कि बीएसपी प्रबंधन द्वारा परियोजना प्रारंभ करने के पूर्व प्रभावित स्थानीय युवाओं को रोजगार एवं क्षेत्र में चिकित्सालय कार्य कराने कहा गया था। उन्होंने कहा कि अधिकतर युवाओं को रोजगार उपलब्ध कराया गया है। किन्तु कुछ युवाओं को अभी भी रोजगार उपलब्ध नहीं कराया गया है, जिसे तत्काल रोजगार उपलब्ध कराया जाये।


नारायणपुर कलेक्टर  ऋतुराज रघुवंशी ने कहा कि प्रभावित क्षेत्र के ग्रामीणों के लिए स्वास्थ्य केन्द्रों की व्यवस्था की जानी चाहिए और प्रबंधन का एक कार्यालय जिले में स्थापित होना चाहिए ताकि ग्रामीण अपनी समस्याओं से प्रबंधन को अवगत करा सकें। कलेक्टर  रघुवंशी ने जिले के प्रभावित क्षेत्रों में किये जा रहे कार्यों की विस्तृत जानकारी दी।

From Around the web