मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना से अनिता की आर्थिक स्थिति हुई मजबूत

 
pic

बीजापुर :  मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना के तहत राज्य के युवा वर्ग को स्व-रोजगार के रूप में उद्योग, सेवा एवं व्यवसाय स्थापित करने में समग्र सहायता (वित्तीय सहायता, गांरटी, प्रशिक्षण व अनुसरण) उपलब्ध कराना है, योजना के अंतर्गत आवेदक की शैक्षणिक योग्यता न्यूनतम आठवी उत्तीर्ण एवं आयु 18 वर्ष से 40 वर्ष के मध्य हो, ऐसे हितग्राही को विनिर्माण हेतु 25 लाख, सेवा उद्यम हेतु 10 लाख एवं व्यवसाय हेतु 2 लाख तक ऋण प्रदाय करने का प्रावधान है। योजना से लाभांवित हितग्राहियों को 10 से 25 प्रतिशत विभागीय अनुदान की पात्रता होेती है।

ग्राम कोनागुड़ा के  अनिता चिकुड़ पति  संतोष चिकुड़ अनुसूचित जनजाति वर्ग की महिला उद्यमी है। हितग्राही ने बताया कि उनके पति जिला शिक्षा अधिकरी कार्यालय बीजापुर में कलेक्टर दर पर भृत्य की नौकरी में कार्यरत है। परन्तु उनकी मासिक वेतन बहुत ही कम होने के कारण परिवार चलाने में काफी कठिनाईयां होती है। हितग्राही द्वारा अपने पति के साथ घर की आर्थिक स्थिति पर सुधार पर चर्चा करते वक्त कोनागुड़ा में कोई किराना की दुकान विद्यमान न होने के कारण राशन से संबंधित व्यवसाय प्रारंभ करने का विचार आया। हितग्राही ने किराना दुकान की व्यवसाय हेतु कार्यालय, जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र बीजापुर से सम्पर्क कर मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजनान्तर्गत वर्ष 2020 में ऋण हेतु आवेदन किया। विभाग द्वारा आवेदन को गांव के नजदीकी पंजाब नेशनल बैंक, संगमपल्ली को प्रेषित कर 1 लाख रूपये का ऋण स्वीकृत कराया गया है। स्वीकृति उपरांत हितग्राही को 06 दिवस का उद्यमिता प्रशिक्षण दिया जाकर संबंधित बैंक से ऋण वितरण भी कराया गया है तथा हितग्राही अनुसूचित जनजाति वर्ग से होने के कारण स्वीकृति राशि का 25 प्रतिशत की दर से अनुदान राशि 25 हजार रूपये विभाग द्वारा प्रदाय किया गया है। वर्तमान में किराना व्यवसाय से प्रतिमाह लगभग 6 हजार रूपये तक की आमदनी हो रही है जिससे बैंक की किश्तों का भी समय से भुगतान कर पा रही ही है एवं परिवार की आर्थिक स्थिति मजबूत हुई है।

From Around the web